हनुमान जी को क्यों लगाया जाता है सिंदूर, माता सीता से है सीधा कनेक्शन, पढ़ें रोचक कहानी..

हनुमान जी को भगवान राम का सबसे बड़ा भक्त माना जाता है. कहते हैं कि एक बार हनुमान जी को प्रसन्न कर दो तो फिर भगवान राम अपने आप खुश हो जाते हैं. हनुमान जी को खुश करने के कई उपाय हैं जैसे मंगलवार को उपवास करना, चना चिरौंजी का प्रशांत, तेल का दीपक और हनुमान चालीसा पढ़ना इत्यादि. इनमें हनुमान जी को सिंदूर चढ़ाने की परंपरा भी काफी प्रसिद्ध है.

ऐसी मान्यता है कि मंगलवार को यदि हनुमान जी को सिंदूर, चमेली के तेल में सिंदूर मिलाकर चढ़ाया जाए तो भक्तों की हर मुराद पूरी हो सकती हैं. आपने नोटिस किया होगा कि जब भी हनुमान जी को सिंदूर चढ़ता है तो पूरे शरीर में लगाया जाता है. ऐसे में क्या आपने कभी सोचा है कि आखिर हनुमान जी को सिंदूर चढ़ाने की यह परंपरा कब और कैसे शुरू हुई?? क्या वजह है जो उन्हें सिंदूर इतना प्रिय है और वह इसे पूरे शरीर में लगा लेते हैं आइए जानते हैं.

हनुमान जी को सिंदूर चढ़ाने की परंपरा के पीछे एक रोचक कहानी है. इस कथा का जिक्र रामायण में भी देखने को मिलता है एक बार माता सीता अपनी मांग में सिंदूर लगा रही थी. उन्हें ऐसा करता देख हनुमान जी ने देखा और माता सीता से पूछा हे माते!! आप अपनी मांग में सिंदूर क्यों लगाती हैं?? माता सीता ने जवाब दिया मेरे मांग में सिंदूर लगाने से भगवान राम प्रसन्न होते हैं और उनकी आयु लंबी होती है. इसलिए मैं रोज एक चुटकी सिंदूर अपनी मांग में भर लेती हूं. हनुमान जी का दिमाग तेजी से चलने लगा और उन्हे एक तरकीब सूझी.

हनुमान जी ने सोचा माता सीता के एक चुटकी सिंदूर लगाने से यदि भगवान राम प्रसन्न होते हैं और उनकी आयु बढ़ती है यदि मैं अपने पूरे शरीर में सिंदूर लगा लो तो श्रीराम कितने खुश होंगे और उनकी आयु तो इतनी बढ़ जाएगी कि वह अमर हो जाएंगे. यह सोचकर हनुमान जी बहुत खुश हुए.

बस फिर क्या था हनुमान जी ने पूरे शरीर में सिंदूर लगाकर भगवान राम के पास पहुंच गए. हनुमान जी को ऐसा देख राम जी हैरान रह गए और उन्होंने इसकी वजह पूछ. जब हनुमान जी ने इसके पीछे का कारण बताया तो भगवान राम बेहद खुश हुए उन्होंने खुशी से हनुमान को गले लगा लिया और हनुमान को आशीर्वाद देते हुए कहा कि मंगलवार को जो भी श्रद्धा से तुम्हें सिंदूर और तेल अर्पित करेगा उसकी हर मनोकामना पूर्ण होगी.

बस तभी से हर मंगलवार को हनुमान जी को सिंदूर चढ़ाया जाने लगा और यह मान्यता में प्रचलित हो गई कि उन्हें सुंदर अति प्रिय है. इसलिए यदि आपके मन में भी कोई मनोकामना है तो मंगलवार के दिन हनुमान जी को सिंदूर का चोला चढ़ाना न भूलें. सच्चे मन से हनुमान जी की भक्ति करने वाले की हनुमान जी सारी मनोकामना पूर्ण करते हैं.