कौन है रतन टाटा के कंधे पर हाथ रखने वाला ये शख्स? असलियत जान चौड़ी हो जाएंगी आपकी आंखें

रतन टाटा देश के बड़े व जाने माने उद्योगपति हैं। रतन टाटा टाटा ग्रुप ऑफ इंडस्ट्रीज के मालिक हैं। हर साल 28 दिसंबर को वह अपना जन्मदिन मनाते हैं। रतन टाटा बेहद सादगी पसंद इंसान हैं। इस बार भी उन्होंने अपना 84वां जन्मदिन बेहद सादगी से मनाया। लेकिन उनके बर्थडे की छोटी सी पार्टी में एक युवक भी वायरल हो गया। अब आप सोच रहे होंगे कि आखिर कौन है यह युवा?चलिए आपको बताते हैं।

शेयर करते है मजबूत बॉन्डिंग-: इस युवक का नाम शांतनु नायडू है। यह रतन टाटा का पर्सनल असिस्टेंट है। वीडियो में नजर आ रहा है कि शांतनु एक छोटे से कप में मोमबत्ती लगी केक लेकर आते हैं और रतन टाटा के कंधे पर हाथ रखकर खड़े हो जाते हैं। रतन टाटा फूंक मारकर उस मोमबत्ती को बुझाते हैं और केक काट कर सबसे पहले शांतनु को खिलाते हैं। इसके बाद शांतनु भी केक लेकर रतन टाटा को खिलाते हैं वीडियो में दोनों की शानदार बॉन्डिंग नजर आ रही है।

यह भी पढ़ें-: साउथ सुपरस्टार धनुष ने रजनीकांत की बेटी को दिया तलाक, ट्वीट करके दी जानकारी

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Viral Bhayani (@viralbhayani)

रतन टाटा ने खुद किया था अप्वॉइंट -: रतन टाटा युवाओं के बीच खासे लोकप्रिय हैं। इस उम्र में भी उनके एनर्जी और मोटिवेशन भरे स्पीच युवाओं को बहुत प्रोत्साहित करते हैं। लेकिन खुद रतन टाटा शांतनु नायडू के फैन है। शांतनु नायडू मुंबई के उन खुशनसीब युवाओं में से एक हैं जिन्हें खुद रतन टाटा ने फोन करके कहा था कि मैं आपके काम करने के तरीके का प्रशंसक हूं क्या आप मेरी असिस्टेंट बनेंगे?

यह भी पढ़ें-: कहानी उस कुली की, जिसने रेलवे स्टेशन के फ्री Wi-Fi से पढ़कर दी UPSC की परीक्षा और बन गया IAS ऑफिसर

दरअसल शांतनु नायडू टाटा के पर्सनल असिस्टेंट बनने से पहले एक सोशल वर्कर थे। उनका एक वीडियो वायरल हुआ था जिसमें वह एक रोड एक्सीडेंट में एक कुत्ते को मरने से बचा रहे हैं। इसके बाद शांतनु ने इन बेजुबान जानवरों के लिए कुछ अलग करने की सोची।

यह भी पढ़ें-: मिलिए MBA चायवाला से, 22 साल का लड़का चाय बेचते-बेचते बना करोड़पति, विदेशों में भी खोलने जा रहा फ्रेंचाइजी

इन्होंने सड़क पर घूमने वाले आवारा कुत्तों के लिए गले में बांधने वाली एक ऐसी चमकदार पट्टी बनाई जो रात को भी चमकती है जिससे कुत्ते रात को रोड एक्सीडेंट में बच जाते हैं। उनकी यही दरियादिली रतन टाटा को भा गई और उन्हें अपना पर्सनल असिस्टेंट रख लिया। बताया जाता है कि रतन टाटा कुछ भी नया करने से पहले शांतनु की सलाह जरूर लेते हैं।

यह भी पढ़ें-: कभी लगातार चार बेटियों के जन्म से परेशान हो गए थे पिता, आज चारों बेटियां कर रही है बॉलीवुड पर राज