जब इस महिला ने सुपरस्टार रजनीकांत को समझ लिया था भिखारी, अभिनेता को थमा दिए थे 10 रूपये, आप भी जाने यह मजेदार किस्सा

साउथ इंडस्ट्री से लेकर बॉलीवुड इंडस्ट्री में अपनी एक अलग पहचान बनाने वाले मशहूर अभिनेता रजनीकांत आज किसी पहचान के मोहताज नहीं है. इन्होंने अपने दमदार अभिनय से दर्शकों को अपना दीवाना बना लिया है. बता दे रजनीकांत का जन्म 12 दिसंबर 1950 को बेंगलुरु के एक गरीब परिवार में हुआ था. ऐसे में उन्होंने कई मुश्किलों का सामना किया. शुरुआती दिनों में वह बस कंडक्टर की नौकरी किया करते थे. नौकरी करने के बाद इंटरटेनमेंट इंडस्ट्री का हिस्सा बने और अपनी कड़ी मेहनत के बलबूते पर आज एक नया मुकाम हासिल किया है.

यह भी पढ़ें: फैंस के लिए खुशखबरी, दोबारा मां बनी दिशा वकानी, दिया प्यारे से बेटे को जन्म

बता दे रजनीकांत अपनी बेहतरीन एक्टिंग और अनोखे अंदाज के साथ-साथ सहज स्वभाव के लिए भी जाने जाते हैं. जहां फिल्मों में वह खास स्टाइल के लिए जाने जाते हैं वही असल जिंदगी में वह बेहद सादगी से रहना पसंद करते हैं. आज हम आपको बताने जा रहे हैं रजनीकांत से जुड़ा एक मजेदार किस्सा जहां एक महिला ने उन्हें भिखारी समझकर उन्हें ₹10 दिए थे.

यह भी पढ़ें: फैंस के लिए खुशखबरी, दोबारा मां बनी दिशा वकानी, दिया प्यारे से बेटे को जन्म

दरअसल यह पूरा मामला 2007 का है. इस दौरान रजनीकांत की फिल्म शिवाजी द बॉस रिलीज हुई थी जिसने बॉक्स ऑफिस पर धमाका मचा दिया था. इतना ही नहीं इस फिल्म के जरिए रजनीकांत को अपार सफलता हासिल हुई. जिससे खुश होकर वह मंदिर भगवान के दर्शन करने के लिए पहुंचे थे. हालांकि आम लोगों की तरह रजनीकांत का मंदिर जाना इतना आसान नहीं था. ऐसे में उन्हें विचार आया कि वह क्यों ना अपना गेट अप चेंज कर ले इसलिए फिर रजनीकांत ने मेकअप मैन से अपना हुलिया चेंज करवा लिया और वह बूढ़े आदमी के गेटअप में आ गए.

यह भी पढ़ें: जूस की दुकान से शुरू किया था गुलशन कुमार ने अपना करियर, फिर ऐसे बने संगीत के सबसे बड़े बादशाह

दरअसल रजनीकांत की फैन फॉलोइंग इतनी जबरदस्त है कि उनकी एक झलक देखने के लिए फैंस बेकरार रहते हैं. ऐसे में उन्होंने बूढ़े आदमी का गेटअप लिया और मंदिर के लिए रवाना हो गए. जब वह मंदिर की सीढ़ियां चढ़ रहे थे तभी एक महिला ने उन्हें ₹10 दे दिए.

यह भी पढ़ें: जोधपुर का अनोखा परिवार, गाय बछड़ों के साथ रहते हैं घर के अंदर, मानते हैं परिवार का सदस्य

महिला को लगा कि या कोई कमजोर बुजुर्ग आदमी है और बुजुर्गों की हालत भी ठीक नहीं लग रही थी. ऐसे में फिर उन्होंने भिखारी समझकर रजनीकांत के हाथ में ₹10 थमा दी.रजनीकांत ने में चुपचाप या पैसे अपने पास रख इसके बाद वह मंदिर में पहुंचे जहां पर उन्होंने कई रूपयो का भगवान के चरणों में चढ़ावा चढ़ाया यह सब देखकर वह महिला हैरान रह गई.

यह भी पढ़ें: 8 साल से झेल रही थी निसंतान होने का दुख, फिर दिया एक साथ चार बच्चों को जन्म, देखने के लिए गांव में उमड़ी भीड़

ऐसे में एक बार फिर उसने रजनीकांत को गौर से देखा तो वह तुरंत उन्हें पहचान गई और फिर माफी मांगने के लिए उनके पास पहुंचे इस दौरान महिला ने कहा कि मुझसे भूल हो गई मेरे ₹10 मुझे वापस कर दीजिए. इस पर रजनीकांत ने कहा आपके ₹10 मेरे लिए भगवान के आशीर्वाद की तरह है आप केवल मुझ पर अपना प्यार और आशीर्वाद बनाए रखें. रिपोर्ट की मानें तो उस महिला का नाम डॉक्टर गायत्री है जो उनके द्वारा लिखी गई एक बुक में इस किस्से को बयां किया था.

यह भी पढ़ें: आधी शर्ट उतार कर चलना कंगना को पड़ा भारी, हुई उप्स मोमेंट का शिकार, दर्शकों ने जमकर किया ट्रोल, वीडियो हुआ वायरल

बता दे 23 अगस्त 1975 को रजनीकांत की पहली फिल्म अपूर्वा रागंगल रिलीज हुई थी इसी फिल्म से रजनीकांत को एक नई पहचान मिली और उन्होंने कई सुपरहिट फिल्मों में काम किया. इसके बाद रजनीकांत ने साल 1983 में आई फिल्म अंधा कानून से बॉलीवुड की ओर अपने कदम बढ़ाए. इसके बाद रजनीकांत ने बॉलीवुड में खून का कर्ज़, हम, क्रांतिकारी, भगवान दादा, इंसानियत का देवता, चालबाज के इंसाफ, कौन करेगा दोस्ती दुश्मनी, असली कहानी, जॉन जानी जनार्दन जैसी सुपरहिट फिल्मों में काम किया और अपने अभिनय का लोहा मनवाया,