किन्नर बबीता ने पेश की मानवता की मिसाल, 50 लाख की लागत से बनवाया शिव मंदिर, पूरा किया 40 साल पुराना सपना

आज कल सोशल मीडिया के जरिए हमें ऐसी खबर सुनने व देखने को मिलती है जिसे जानने के बाद हम आश्चर्य हो जाते हैं. आज कल हमारे समाज में किन्नर को दूसरे नजरिए से देखा जाता है लेकिन किन्नर बबीता ने अपने इस नेक काम से लाखों लोगों के दिलों को जीत लिया है और लोगों के लिए एक प्रेरणा बन गई हैं.

एक ऐसा ही मामला अंतर्राष्ट्रीय सरहद पर बसे बाड़मेर जिला मुख्यालय से आया है जहां किन्नर बबीता ने 5 लाख रुपए की लागत से शिव मंदिर बनाकर बड़ी पहल की है. आपको बता दें कि बबीता इस मंदिर के लिए बीते 40 साल से सपना देख रही थी. आखिरकार बबीता ने मंदिर बना कर अपना सपना पूरा कर लिया. इतना ही नहीं राम मंदिर निर्माण के लिए भी बबीता ने 5 लाख की सहयोग राशि भेंट की है.

एक सास ऐसी भी: 11 बहुओं ने सास को ही माना भगवान, सोने के गहने पहनाकर रोज करती हैं पूजा

आपको बता दें यह नेक काम भारत-पाकिस्तान बॉर्डर पर स्थित बाड़मेर जिले में हुआ है जहां एक किन्नर ने अपनी जमा पूंजी से भव्य शिव मंदिर का निर्माण करवाया है. किन्नर समुदाय के गादीपति बबीता बहन 50 लाख रुपए की लागत से भव्य शिव मंदिर की स्थापना की है. इस मंदिर में भगवान शिव, पार्वती, गणेश और नंदी की भव्य प्रतिमा का आयोजन किया गया.

बबीता का पहले से ही यह सपना था कि जब भी उनके पास पैसा होगा वह एक भव्य मंदिर का निर्माण करेंगे. बबीता बहन ने अपने गुरु ताराबाई के समाज सेवा के नक्शे कदम पर चलते हुए लोगों के साथ ना केवल अपना श्रेय बनाए रखा बल्कि अपने सपने को भी पूरा करके दिखाया. उनके पड़ोसी बताते हैं कि बबीता बहन में अपनापन बेमिसाल है. वह बीते 40 साल से निस्वार्थ भाव से लोगों की मदद करती आ रही हैं.

टीवी के सबसे महंगे भगवान शिव थे मोहित रैना, करते थे 12 घंटे शूटिंग, चार्ज करते थे मोटी रक़म

होली दिवाली हो या फिर किसी के घर में नए सदस्य का आगमन बबीता बहन ने गाने बजाने और दुआएं दे कर पाई पाई जोड़ कर इस मंदिर का निर्माण करवाया है. ऐसा नहीं है कि बबीता बहन ने मंदिर और धर्म कर्म की तरफ पहला कदम बढ़ाया हो. बबीता बहन ने इससे पहले भी राम मंदिर के निर्माण के लिए 5 लाख रुपए की राशि भेंट की हैं.

हमारे देश भर में किन्नर समुदाय के प्रति लोगों की धारणा और नजरिया आमतौर पर बहुत ज्यादा अच्छा नहीं लगता लेकिन बबीता ने इन सभी धारणाओं को तोड़कर एक नई मिसाल कायम की है. बबीता बहन द्वारा धर्म-कर्म के लिए बढ़ाया गया यह कदम लाखों लोगों के लिए किसी प्रेरणा से कम नहीं है.

करियर के पीक पर पहुंचकर आखिर क्यों सन्यासी बन गए थे सुपरस्टार विनोद खन्ना, आश्रम में साफ करने लगे थे टॉयलेट