राम मंदिर बनाने के लिए सीएम योगी को 90 लाख की प्रॉपर्टी सौंपना चाहता है यह मुस्लिम शख्स, जाने वजह

अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण चल रहा है. उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर जनपद से एक मामला सामने आया है जहां एक मुस्लिम परिवार में अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए अपनी 90 लाख रूपए की निजी संपत्ति को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सौंपने की घोषणा की है. इस मुस्लिम शख्स का यह मानना है कि देश परदेश के मुस्लिम समाज में यह संदेश जाए कि मुसलमान अयोध्या और भगवा से प्रेम करता है.

दरअसल मुजफ्फरनगर के खालापार निवासी डॉक्टर मोहम्मद समर गजनी ने शुक्रवार को इस बात की घोषणा की वह अपनी लगभग 90 लाख की निजी संपत्ति को अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए सौंपना चाहते हैं. जिससे इस संपत्ति को बेच कर इसका सारा पैसा राम मंदिर के निर्माण मे लग सके और मुस्लिम समुदाय मैं यह संदेश जाए कि मुसलमान भी अयोध्या और भगवान से प्रेम करता है. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि मोहम्मद समर गजनी वही शख्स है जो भगवा कपड़े पहन कर ईद की नमाज अदा करने को लेकर चर्चा में आ चुके हैं.

मोहम्मद समर गजनी भाजपा अल्पसंख्यक समाज मोर्चा के पूर्व प्रदेश मंत्री भी रह चुके हैं. वह भाजपा व योगी आदित्यनाथ की कार्यप्रणाली से प्रभावित है अपनी संपत्ति को राम मंदिर के लिए दान करने की घोषणा की है. मोहम्मद समर गजनी ने कहा कि अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण हो रहा है उसमें सहयोग करने के लिए वह अपनी निजी संपत्ति को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सौंपना चाहते हैं.

जिससे वह बेच कर उसके पैसों को राम मंदिर के निर्माण में लगाया जा सके और पूरे प्रदेश के मुसलमानों को या बताना चाहते हैं कि मुसलमान अयोध्या और भगवान से प्रेम करता है और मुस्लिम समाज 2024 में भारी तादात में योगी जी के साथ कदम से कदम मिलाकर चलें. मोहम्मद समर गजनी ने कहा कि योगी जी किसी धर्म के खिलाफ नहीं है वह सिर्फ और सिर्फ अपराधियों और माफियाओं के खिलाफ है. हमारी यह 90 लाख रूपए की प्रॉपर्टी है जिसे हम अयोध्या के नाम दान करेंगे और योगी जी को देंगे.

मोहम्मद गजनी ने कहा कि एक भगवा ही है जो उत्तर प्रदेश को एक विशेष राज्य बनाना चाहता है जो भारत के इतिहास में एक इतिहास बन जाए और प्रदेश को ऊंचा स्थान पर ले जाए. सही मायने में देखा जाए तो रामराज्य लाना चाहते हैं. जिसमें हिंदू और मुसलमान को एक साथ होकर कदम से कदम मिलाकर चलना चाहिए. 15 मई से हम घर घर जाकर मुस्लिम समाज में यह संदेश देंगे कि योगी जी के साथ आए और दोस्ती का हाथ बढ़ाए.