सच्चे प्यार की मिसाल बने ये बुजुर्ग दंपत्ति, पत्नी की मृत्यु के बाद पति ने भी तोड़ा दम, एक साथ उठी दो अर्थियां तो रो पड़े लोग

पति पत्नी का रिश्ता दुनिया का सबसे खूबसूरत रिश्ता माना जाता है. विवाह के बंधन से एक स्त्री और एक पुरुष एक साथ आते हैं जिससे एक नए परिवार का निर्माण होता है. शादी के सात फेरे लेते वक्त पति पत्नी एक दूसरे का पूरी जिंदगी साथ निभाने व सुख दुख में साथ देने का वचन देते हैं. अक्सर हम सभी लोगों ने भी शादी या प्यार में एक दूसरे के साथ जीने मरने की कसमें खाने की बात तो सुनी होगी.

इसी बीच असल में ऐसा मामला देखने को मिला है जी हां मध्य प्रदेश के विदिशा शहर में एक ऐसी अनोखी घटना देखने को मिली है जिसे देखने के बाद वहां के लोग आश्चर्य है. आपको बता दें कि पत्नी की मौत के पश्चात पति ने भी अपने प्राण त्याग दिए. परिजनों ने दोनों शवों का अंतिम संस्कार एक साथ किया.

मिली जानकारी के मुताबिक 87 साल के राधाकृष्णन माहेश्वरी नंदवाना के रहने वाले थे. वह काफी लंबे समय से बीमार चल रहे थे. वही उनकी पत्नी कमला देवी जो सुबह से लेकर शाम तक अपने बीमार पति की सेवा करती रहती थी. हाल ही में शनिवार के दिन कमला देवी की अचानक तबीयत खराब हुई जिसके बाद उनकी तत्काल मृत्यु हो गई. जब उनके अंतिम संस्कार की तैयारी की जा रही थी तो उनकी पुत्री का इंतजार करने के चलते अंतिम संस्कार रविवार को करना तय किया गया.

वही बीमार पति राधाकृष्णन माहेश्वरी को इस बारे में कुछ भी नहीं पता था कि उनकी पत्नी कमला देवी अब इस दुनिया में नहीं रहीं. जैसे ही उन्हें यह जानकारी प्राप्त हुई वह इस सदमे को बर्दाश्त नहीं कर पाए और रविवार उनकी भी मृत्यु हो गई. तब परिजनों को दोनों को अंतिम विदाई एक साथ देने की प्रक्रिया पूरी करनी पड़ी. नंदवाना से लेकर मुख्य तिलक चौक मार्ग तक पति-पत्नी की अर्थियां एक साथ लाई गई.

परिवार के सदस्य ऐसा बताते हैं कि उनकी कोई संतान नहीं थी इसलिए उन्होंने अपने छोटे भाई की बेटी प्रतिभा माहेश्वरी को गोद लिया था. प्रतिभा माहेश्वरी दिल्ली में रह रही हैं भले ही उनकी कोई संतान नहीं थी उसके बाद भी उन्होंने अपने जीवन को किसी प्रकार के दुख या परेशानी में गुजारते हुए अन्य लोगों के लिए प्रेरणा का काम किया हैं.

Read Also: