नहीं थे चालान भरने के पैसे, बेटे का गुल्लक ले आया रिक्शावाला, उदार इंस्पेक्टर ने खुद भरा चालान

हम लोगों ने अक्सर फिल्मों में देखा है पुलिस की छवि को ज्यादातर भ्रष्टाचारी का साथ देते और रिश्वतखोरी करते हुए दिखाया जाता है. मगर असल जिंदगी में पुलिस वाले ऐसे हैं जो पुलिस को छवि को और दमदार बनाते हैं उन्हीं में से एक हैं नागपुर के सीनियर ट्रैफिक पुलिस इंस्पेक्टर अजय मालवीय.

इसे भी पढ़ें-: 20 महीने की इस मासूम बच्ची ने 5 लोगों को दी नई जिंदगी, सबसे कम उम्र में किया अंगदान

इन्होंने एक रिक्शा वाले का चालान भरकर पुलिस का एक नया चेहरा जनता के सामने लाने की कोशिश की है. बता दे कि अजय मालवीय नागपुर के इलाके में सीनियर ट्रैफिक पुलिस इंस्पेक्टर तैनात थे. उन्होंने हर एक गाड़ियों की जांच की और एक रिक्शा वाले का चालान काट दिया. रिक्शेवाले को पकड़कर थाने ले जाया गया और उसी से वर्तमान और पुराने बाकी चालान भरने को भी कहा गया.

इसे भी पढ़ें-: मजदूरी करके चलाती थी घर, इनकम टैक्स विभाग ने मारा छापा तो निकली 100 करोड़ की मालकिन

रिक्शा चालक रोहित खडसे के पास इतने पैसे नहीं थे कि वह अपना चालान भर सके इसलिए रोहित ने रात भर की मोहलत मांगी और सुबह होने पर अपने बेटे का गुल्लक लेकर अपना रिक्शा छुड़ाने के लिए आ पहुंचा. रोहित ने इंस्पेक्टर अजय मालवीय के सामने गुल्लक रखते हुए कहा कि साहब मेरे पास इतने पैसे नहीं है कि मैं चालान भर सकूं इसलिए मैं अपने साथ अपने बेटे का गुल्लक ले आया हूं.

इसे भी पढ़ें-: उम्र 181 साल.. मौ’त भूल गई है इनके घर का रास्ता, मौ’त के लिए रोज तड़प’ता है यह बुजुर्ग

रिक्शा चालक रोहित की हालत देख इंस्पेक्टर अजय मालवीय को दया आ गई और उन्होंने वह गुल्लक रोहित को वापस कर दिए और अपनी जेब से पूरे 5 हजार का चालान भरकर रिक्शा वाले को रिहा कर दिया. इंस्पेक्टर अजय मालवीय के इस नेक काम की हर जगह प्रशंसा हो रही है.

इसे भी पढ़ें-: पिता के पास बचे थे सिर्फ 6 महीने, बेटे ने अपना लीवर दान कर पिता को दी नई जिंदगी