दुनिया की पहली महिला पायलट, नहीं है हाथ इसलिए पैरों से उड़ाती हैं विमान

सोशल मीडिया पर अक्सर कुछ ऐसे समाचार सुनने को मिलते हैं जिसे सुनने के बाद हमें विश्वास कर पाना मुश्किल हो जाता है. आज हम आपको एक ऐसी महिला से रूबरू कराने जा रहे हैं जो हाथों से नहीं बल्कि अपने पैरों से विमान उड़ाती हैं. हम सब जानते हैं कि पायलट की नौकरी को दुनिया की सबसे बेहतरीन नौकरियों में से एक माना जाता है लेकिन एक पायलट बनना उतना ही मुश्किल है.

जेसिका कॉक्स

इतना ही नहीं इस महिला का नाम गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में भी दर्ज है. दरअसल हम जिस महिला की बात कर रहे हैं उनका नाम जेसिका कॉक्स है. जेसिका अमेरिका की रहने वाली हैं. जेसिका दुनिया की पहली और इकलौती ऐसी पायलट हैं जिनके हाथ नहीं है.

जेसिका कॉक्स

यही नहीं जेसिका के पास दुनिया का पहला ऐसा लाइसेंस है जो किसी आर्मलेस यानी बिना हाथ वाली पायलट को दिया गया है. आपको जानकर आश्चर्य होगा कि जेसिका विमान ही नहीं बल्कि कार भी अपने पैरों से चलाती हैं. स्कूबा ड्राइविंग और कीबोर्ड पर टाइप भी जेसिका अपने पैरों से ही करती हैं.

जेसिका कॉक्स

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि जेसिका की उम्र 36 साल है. वह अपने पैरों से ही लिखती हैं यहां तक कि वह अपने सभी जरूरत कामों को अपने पैरों से ही करती हैं. जेसिका का सारा काम उनके पैरों की मदद से ही हो जाता है.

जेसिका कॉक्स

बता दे कि जेसिका का जन्म 2 फरवरी 1983 को अमेरिका के एरिजोना में हुआ था. जेसिका जन्म से ही बिना हाथों के पैदा हुई थी यानी जन्म से ही उनका हाथ नहीं है. उन्हें देखकर उनके मां-बाप भी हैरान रह गए थे.

जेसिका कॉक्स

जेसिका ने महज 14 साल की उम्र से ही अपने पैरों से काम करना शुरू कर दिया था. इससे पहले वह नकली हाथों की मदद से अपना काम किया करती थी. जब वह 22 साल की थी तब उन्होंने अपने पैरों से विमान उड़ाया था. जेसिका ने अब तक 23 देशों की उड़ान भरी है. (Image Source: Google)