कहानी उस कुली की, जिसने रेलवे स्टेशन के फ्री Wi-Fi से पढ़कर दी UPSC की परीक्षा और बन गया IAS ऑफिसर

दुनिया में बहुत से ऐसे लोग हैं जो खुद के कामयाब न होने की वजह जीवन में संसाधनों की कमी को बताते हैं. उनका यह मानना होता है कि अगर उन्हें सारी सुख सुविधाएं मिल जाती है तो वह अपने जीवन में कुछ बेहतर कर सकते थे तो वहीं कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जो कभी भी अपनी कमियों के बारे में नहीं सोचते वह मेहनत करते हैं और संसाधनों की चिंता किए बिना सफल होते हैं. रेलवे स्टेशन पर कुली का काम करने वाले केरल के श्रीनाथ भी एक ऐसा ही उदाहरण है.

एक कुली जो बना IAS ऑफिसर

सिविल सेवा यानी यूपीएससी की परीक्षा एक कठिन परीक्षा होती है जहां हर साल लाखों लोग इस कठिन परीक्षा को पास करने के लिए एक से बढ़कर एक कोचिंग का सहारा लेते हैं. वही बात करें केरल के श्रीनाथ ने इस कठिन परीक्षा को बिना किसी कोचिंग के ही पास कर लिया. इससे भी बड़ी बात यह थी कि श्रीनाथ ने जब इस कठिन परीक्षा UPSC की तैयारी की तब वह रेलवे स्टेशन पर कुली का काम किया करते थे.

यह भी पढ़ें-: मजदूरी करके चलाती थी घर, इनकम टैक्स विभाग ने मारा छापा तो निकली 100 करोड़ की मालकिन

अपने परिवार में अकेले कमाने वाले थे श्रीनाथ

बता दें कि श्रीनाथ का परिवार आर्थिक रूप से कमजोर था इसलिए अपने परिवार का पेट पालने के लिए श्रीनाथ एर्नाकुलम स्टेशन पर कुली का काम करते थे. वह अपने परिवार के इकलौते कमाने वाले आदमी थे. साल 2018 में श्रीनाथ ने फैसला लिया कि वह कड़ी मेहनत करके एक बड़ा पद हासिल करेंगे जिससे उनकी आय में वृद्धि हो और वह अपनी बेटी को एक उज्जवल भविष्य दे सके. जिसके बाद श्रीनाथ ने सिविल सेवा परीक्षा देने का मन बनाया लेकिन उनकी आर्थिक कमजोरी उनके राह का सबसे बड़ा पत्थर बनकर खड़ी थी. अपने परिस्थितियों से आगे बढ़कर श्रीनाथ ने UPSC की परीक्षा क्रैक की और एक मिसाल पेश की.

स्टेशन के फ्री WiFi से पूरी की पढ़ाई

अपनी आर्थिक स्थिति खराब के कारण श्रीनाथ कोचिंग सेंटर की फीस देने में सक्षम नहीं थे और उनके मन में यह बात हमेशा आती थी कि बिना कोचिंग के वह इस कठिन परीक्षा को कैसे पास करेंगे. लेकिन उनके इस कठिन राह को रेलवे स्टेशन पर लगे Free WiFi ने आसान बनाया.
श्रीनाथ ने इसी वाईफाई से अपने स्मार्टफोन पर पढ़ाई शुरू कर दी. श्रीनाथ के लिए मिला यह फ्री वाईफाई किसी वरदान से कम नहीं था. श्रीनाथ यहां कुली का काम करते हैं और समय मिलते ही ऑनलाइन लेक्चर सुनने लगते. अपनी इस लगन और कठिन मेहनत के दम पर श्रीनाथ ने यूपीएससी जैसी कठिन परीक्षा पास की.

यह भी पढ़ें-: 74 वर्ष की उम्र में वृद्ध महिला ने दिया दो बच्चों को जन्म, बन गया अनोखा विश्व रिकॉर्ड

कठिन मेहनत के बाद मिली सफलता

फिर श्रीनाथ ने स्टेशन पर लगे वाईफाई की मदद से UPSC की तैयारी शुरू कर दी बिना कोचिंग के थोड़ा कठिन था. पहले भी 3 बार श्रीनाथ को असफलता हाथ लगी लेकिन चौथी बार अपने कठिन मेहनत से इस कठिन परीक्षा को पास कर लिया. श्रीनाथ ने आईएएस अधिकारी बन उन लाखों छात्रों के लिए एक मिसाल कायम कर दी जो सोचते हैं कि गरीबी उन्हें अपने जीवन में आगे नहीं बढ़ने देती. श्रीनाथ ने दुनिया को यह बताया कि आप हर परिस्थिति में कड़ी मेहनत कर अपने लक्ष्य को प्राप्त कर सकते हैं.

यह भी पढ़ें-: नहीं थे चालान भरने के पैसे, बेटे का गुल्लक ले आया रिक्शावाला, उदार इंस्पेक्टर ने खुद भरा चालान