श्रीनगर के आईपीएस अधिकारी ने जीता लोगों का दिल, 90 वर्षीय बुजुर्गों को अपनी जेब से दिए 1 लाख रुपए

भारत देश में लोग पुलिस से अक्सर खौफ खाते हैं। भारत ही एक ऐसा देश है जहां पुलिस आने पर लोग सुरक्षित महसूस नहीं करते बल्कि डरने लगते हैं। लोगों को लगता है कि अधिकतर पुलिस वाले असभ्य व्यवहार वाले होते हैं। हालांकि कई मामलों में यह बात सच भी साबित हुई है.

यह भी पढ़ें-: रतन टाटा के साथ साए की तरह रहता है यह युवक, शेयर करता है जबरदस्त बॉन्डिंग, जानें इसके बारे में

लेकिन कई बार कुछ ऐसा हो जाता है कि लोगों की मदद करती हुई भी नजर आती है। हाल ही में एक मामला सामने आया है जो जम्मू के श्रीनगर से है जहां एक सीनियर रैंक के पुलिस अधिकारी एक बुजुर्ग फल विक्रेता की मदद करते नजर आ रहे हैं।

यह भी पढ़ें-: कहानी उस कुली की, जिसने रेलवे स्टेशन के फ्री Wi-Fi से पढ़कर दी UPSC की परीक्षा और बन गया IAS ऑफिसर

चोरों ने लूट ली थी दुकान-: श्रीनगर के आईपीएस अधिकारी संदीप चौधरी ने जिस प्रकार उस बुजुर्ग की मदद के यह वाकई में काबिले तारीफ है। दरअसल इस बुजुर्ग की छोटी सी दुकान कुछ चोरों ने लूट ली थी। दुकान में बुजुर्ग ने अपनी जीवन भर की कमाई जोड़ रखी थी और उन्होंने अपने अंतिम संस्कार के लिए भी कुछ रकम जोड़ रखी थी।

यह भी पढ़ें-: मिलिए MBA चायवाला से, 22 साल का लड़का चाय बेचते-बेचते बना करोड़पति, विदेशों में भी खोलने जा रहा फ्रेंचाइजी

लेकिन चोरों ने पूरी दुकान लूट ली।उस बेचारे बुजुर्ग को अपनी जीवन भर की गाढ़ी कमाई से हाथ धोना पड़ा। श्रीनगर के बोहरी कदल क्षेत्र के स्ट्रीट वेंडर 90 वर्षीय अब्दुल रहमान की आईपीएस अधिकारी संदीप चौधरी ने जिस तरह मदद की उस तरह लोगों का एक बार फिर पुलिस पर भरोसा बढ़ने लगा है।

यह भी पढ़ें-: 20 महीने की इस मासूम बच्ची ने 5 लोगों को दी नई जिंदगी, सबसे कम उम्र में किया अंगदान

बुजुर्ग की द्रवित कर देने वाली दशा इस युवा अधिकारी से नहीं देखी गई और उन्होंने अपने जेब से बुजुर्ग को एक लाख रुपए की आर्थिक सहायता दी। सहायता पाकर बुजुर्ग का चेहरा खिल उठा।उनके इस दरियादिली की चर्चा अब पूरे श्रीनगर में हो रही है। वाकई हमें ऐसे दिलदार और ईमानदार पुलिस कर्मियों की जरूरत है जो समाज की भलाई के लिए काम कर सकें।