सूर्य ग्रहण 2022: अप्रैल में लगने जा रहा साल का पहला सूर्य ग्रहण, 100 साल बाद सूर्य ग्रहण पर बन रहा यह अनोखा संयोग, जान ले बेहद काम के हैं ये उपाय

Solar eclipse 2022:

आप सब यह जानते हैं कि सूर्य ग्रहण ना सिर्फ महत्वपूर्ण खगोलीय घटना है बल्कि हिंदू धर्म में इसकी बड़ी मान्यता है. आपको बता दें कि इस साल का पहला सूर्य ग्रहण लगने वाला है. वैसे तो इस साल 2 सूर्य ग्रहण लगने वाले हैं. पहला सूर्य ग्रहण 30 अप्रैल 2022 को लग रहा है जो कि आंशिक हैं. सूर्य ग्रहण के दौरान सूतक काल भी लगता है. इस दौरान कई कार्यों की मनाही होती है.

सूर्य ग्रहण का समय:
आपको बता दें कि इस साल लगने वाला सूर्य ग्रहण 30 अप्रैल को आधी रात 12.15 बजे से शुरू होकर अगली सुबह 04.08 तक चलेगा.

साल 2022 का पहला सूर्य ग्रहण:
इस साल का पहला सूर्य ग्रहण 30 अप्रैल को लगने वाला है और इसके बाद दूसरा सूर्य ग्रहण 25 अक्टूबर को 4.29 बजे से लेकर 5.42 बजे तक रहेगा. आपको बता दें कि यह सूर्य ग्रहण भारत में भी कुछ स्थानों पर देखने को मिलेगा.

इस इस जगह दिखेगा सूर्य ग्रहण:
आपको बता दें कि वृषभ राशि में लगने वाला सूर्य ग्रहण अंटार्कटिका, प्रशांत महासागर, दक्षिण अमेरिका, अटलांटिक और पश्चिम दक्षिण अमेरिका में भी नजर आएगा.

सूर्य ग्रहण के समय इन चीजों का रखें ध्यान:
आपकी जानकारी के लिए बता दें कि सूर्य ग्रहण लगने के दौरान आपको अपने मंदिरों को ढक कर रखना है और साथ ही कोई भी शुभ काम करने से बचना है. कहा जाता है कि सूर्यग्रहण के दौरान नेगेटिव एनर्जी आकर्षित होती है इसलिए इस दौरान कोई भी शुभ काम करने में लोगों को बचना चाहिए. इसके अलावा कुछ लोग इस दौरान ना तो भोजन बनाते हैं और ना ही खाते हैं.

भोजन पानी में तुलसी के पत्ते डाल दें. ऐसी मान्यता है कि सूर्य ग्रहण के दौरान गर्भवती महिलाओं पर गलत असर पड़ता है इसलिए सूर्य ग्रहण के दौरान भगवान की आराधना करें और सूर्य ग्रहण बीतने के पश्चात स्नान अवश्य करें. शनि और सूर्य को लेकर बन रहे हैं. इस दुर्लभ संयोग के मौके पर कुछ उपाय बहुत ही ज्यादा लाभकारी साबित हो सकता है.

जो लोग शनि की साढ़ेसाती और शनि की कठिनाइयों से परेशान चल रहे हैं उन्हें अमावस्या पर विशेष उपाय करने से विशेष राहत मिल सकती है. इसके अलावा जिन राशि वालों पर साढ़ेसाती शुरू हो रही है उन्हें उपाय जरूर कर लेनी चाहिए. शनि के कुंभ में प्रवेश करते ही कर्क और वृश्चिक राशि पर भी शनि की साढ़ेसाती शुरू हो जाएगी. वही मकर कुंभ और मीन राशि पर साढ़ेसाती रहेगी.

  • सूर्य ग्रहण शनि अमावस्या के दिन शनिदेव को तेल अवश्य चढ़ाएं.
  • काले कपड़े में उड़द की दाल और काले तिल बांधकर शनि मंदिर में दान करें.
  • शनि देव के साथ-साथ भगवान शिव और संकट मोचन हनुमान की पूजा अवश्य करें इनसे शनि दोषों से राहत मिलेगी.
  • पीपल के पेड़ पर जल अवश्य चढ़ाएं.
  • ग्रहण के बाद स्नान दान अवश्य करें.