अंतिम संस्कार से पहले मृ’त भाई के साथ बहनों ने मनाया राखी का त्यौहार, रोते हुए आखिरी बार बांधी राखी

भाई बहन का रिश्ता इस दुनिया में सबसे पवित्र रिश्ता माना जाता है. भाई बहन बचपन से ही एक साथ खेलते, बढ़ते और पढ़ते हुए बड़े होते हैं. प्रत्येक बहन को साल भर बेसब्री से रक्षाबंधन के पर्व का इंतजार रहता है कि वह अपने भाई के हाथों की कलाई पर राखी बांध सकें. लेकिन इसी बीच एक ऐसा मामला सामने आया हैं जहां रक्षाबंधन से पहले ही भाई अपनी बहनों को छोड़कर हमेशा हमेशा के लिए दुनिया से अलविदा कह गया..

जब भाई का मृ’त शरीर घर पर पहुंचा तो उसके घर लोगों की भीड़ इकट्ठी हो गई. बहनों का अपने भाई के श’व को देखकर बहुत बुरा हाल था. इतना ही नहीं बहनों ने रोते हुए अपने मृ’त भाई की कलाई पर आखिरी बार राखी बांधी. यह दृश्य देखकर वहां मौजूद लोगों की आंखों से आंसू छलक उठे.

दरअसल बरखेड़ा रेलवे ट्रैक पर युवक निशांक राठौर का श’व मिला. निशांक का मंगलवार को शिवनी मालवा में अंतिम संस्कार कर दिया गया. निशांक होशंगाबाद जिले के सिवनी मालवा का रहने वाला था. आपको बता दें कि निशांक राठौर की बहन अंजलि और दीक्षा दोनों ही भोपाल में रहकर सॉफ्टवेयर इंजीनियर की पढ़ाई कर रही है. इस घटना से राठौर परिवार को तगड़ा झटका लगा है. पूरा परिवार इस घटना से एक पल में बिखर गया.

बहनों का ऐसा कहना है कि हमारा भाई कायर नहीं था जो इस तरह खुद’कुशी कर लेता. उसके साथ जरूर कुछ ना कुछ अनहोनी हुई है. निशांक राठौर के पिता उमाशंकर राठौर का कहना है कि मेरे बेटे के ऊपर जो आत्म’हत्या का कलंक लगाया गया है वह सरासर गलत है. इस मामले की निष्पक्ष जांच होनी चाहिए.

निशांक अपने माता-पिता का इकलौता बेटा था. उसकी मौ’त से उसके घर वालों को गहरा सदमा पहुंचा है. अभी कुछ दिनों के बाद ही रक्षाबंधन का पावन पर्व आने वाला था दोनों बहने उसकी तैयारी कर रही थी. लेकिन बहनों ने आखिरी बार अपने इकलौते भाई के साथ रक्षाबंधन का त्यौहार मनाया. उसकी कलाई पर रो-रोकर राखी बांधी..

Read Also: