नंदी के कानों में कुछ इस तरह से कहें अपनी बात, अवश्य पूरी होगी आपकी मनोकामना, जाने क्या है नियम

आपने हर मंदिर में देखा होगा कि भगवान शिव के सामने उनके वाहन नंदी के मूर्ति उपस्थित होती है. जिस प्रकार भगवान शिव का दर्शन और पूजन का महत्व है ठीक उसी प्रकार नंदी का दर्शन भी बेहद लाभकारी है. कहा जाता है कि अगर अपनी मनोकामना नंदी के कान में कहीं जाए तो वे भगवान शिव तक उसे जरूर पहुंचाते हैं. शास्त्रों के अनुसार भगवान शिव जी के नंदी को यह वरदान दिया था कि जो तुम्हारे कान में आकर अपनी मनोकामना कहेगा उस भक्त की सभी इच्छाएं जरूर पूर्ण होंगी.

यह भी पढ़ें: टीवी के सबसे महंगे भगवान शिव थे मोहित रैना, करते थे 12 घंटे शूटिंग, चार्ज करते थे मोटी रक़म

ग्रंथों के अनुसार शिवजी हमेशा अपनी तपस्या में लीन रहते हैं और उनकी तपस्या में कोई विघ्न ना पड़े इसलिए नंदी हमेशा शिव जी की सेवा में तैनात रहते हैं. ऐसे में जो भी भक्त शिव जी के दर्शन को आते हैं वह नंदी के कानों में अपनी मनोकामना बोल कर चले जाते हैं. अगर आप भी नंदी के कान में कुछ कहना चाहते हैं तो जान लें नंदी के कान में अपनी समस्या या मनोकामना कहने से पहले उसके कुछ नियम होते हैं जिनका पालन करना बहुत आवश्यक है.

यह भी पढ़ें: किन्नर बच्चा जानकर मां ने निकाला था घर से बाहर, आज मेहनत करके बना देश का पहला ट्रांसजेंडर पायलट

  1. नंदी के कान में कुछ कहने से पहले नंदी की पूजा अवश्य करें.
  2. नंदी के कान में अपनी मनोकामना करते समय इस बात का ध्यान रखें कि आपकी कही हुई बात कोई और ना सुन पाए.
  3. अपनी बात इतनी धीमी से कहे कि आपके पास खड़े व्यक्ति को भी उस बात का पता ना लगे.
  4. अपनी बात नंदी के किसी भी काम में कही जा सकती है लेकिन बाएं कान में कहने का अधिक महत्व माना जाता है.
  5. बात करते समय अपने होठों को अपने दोनों हाथों से ढक ले ताकि कोई अन्य व्यक्ति इस बात को कहते हुए आप को ना देखें.
  6. नंदी के कान में कभी भी किसी दूसरे की बुराई दूसरे व्यक्ति का बुरा करने की बात ना करें ऐसा करने से आपको छवि पहुंचेगी.
  7. मनोकामना बोलने के बाद यह बोले कि नंदी महाराज हमारी मनोकामना पूरी करो.