बेटे के लिए ऐसा सिर्फ एक मां ही कर सकती है, खुद का लीवर दान कर अपने बेटे को दी एक नई जिंदगी

मां एक ऐसा शब्द है जिसकी महत्व के विषय में जितनी भी बात की जाए उतनी कम है. हर मां प्रसव पीड़ा सहकर अपने बच्चे को जन्म देती है. मां अपने बच्चे को अपनी जान से भी ज्यादा चाहती है. मां की महानता का अंदाजा आप इसी से लगा सकते हैं कि इंसान भगवान का नाम लेना भले ही भूल जा लेकिन मां का नाम लेना नहीं भूलता. एक मां ही होती है जो दुनिया भर के कष्ट सहकर भी अपनी संतान को अच्छी से अच्छी सुविधा देना चाहती हैं.

यह भी पढ़ें: बॉलीवुड के मशहूर सिंगर केके का 53 साल की उम्र में निधन, कोलकाता में कांसर्ट के दौरान बिगड़ी तबीयत

एक ऐसा ही मामला मध्य प्रदेश के उज्जैन से सामने आया है जिसे जानने के बाद आप भावुक हो जाएंगे. यहां एक महिला ने अपने 6 साल के बच्चे को बचाने के लिए उसे अपनी लीवर डोनेट कर दी है. आपको बता दें यह महिला शाजापुर जिले के ढाबलाधीर की रहने वाली है इस महिला ने अपने जिगर के टुकड़े की जिंदगी को बचाने के लिए हर संभव प्रयास किया.

यह भी पढ़ें: लव स्टोरी ऑफ रतन टाटा, जाने क्यों बिज़नेस टायकून ने नहीं पहना शादी का सेहरा, कैसे अलग हो गई थी गर्लफ्रेंड

आर्थिक स्थिति ठीक ना होने पर महिला ने सीएम शिवराज से गुहार लगाई. लीवर प्रत्यारोपण के लिए सरकार की तरफ से 25 लाख रुपए की व्यवस्था की गई. 1 महीने पहले की 6 साल के अपने बेटे को अपना लिवर ट्रांसप्लांट कर बेटे को एक नई जिंदगी दी थी. आज मां और बेटा दोनों स्वस्थ हैं.

यह भी पढ़ें: 2 शादियों के बाद भी इस एक्ट्रेस के प्यार में पागल थे धर्मेन्द्र, 30 साल बाद फिर हुई मुलाकात…

आपको बता दें इस महिला ने पहले ही लीवर संक्रमित होने की वजह से एक बेटी और एक बेटा खो चुकी है. वहीं तीसरे बेटे देवराज की उम्र भी महज 6 वर्ष की थी. उसका भी लीवर संक्रमित हो गया इसके बाद डॉक्टर ने सलाह दी कि लीवर प्रत्यारोपण करके इसकी जिंदगी बचाई जा सकती है.

यह भी पढ़ें: खूबसूरती से भी दो क़दम आगे थी राज कपूर की बेटी रितु नंदा, अमिताभ बच्चन की लगती थीं समधन, गिनीज़ बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज है नाम

वही मां सुनीता आप अपने तीसरे बेटे को नहीं खोना चाहती थी इसी वजह से उन्होंने खुद अपने बेटे को लेकर देने का फैसला किया लेकिन एक बार फिर मां की ममता की परीक्षा थी. सुनीता ने अपने बेटे को लेकर देने का फैसला तो कर लिया लेकिन उसके लिए 25 लाख रुपए तक का खर्च आता. सुनीता की आर्थिक स्थिति बहुत खराब थी जिसके चलते इतना पैसा जुटा पाना उसके लिए संभव नहीं था.

यह भी पढ़ें: मां ने बेटे के लिए बनाई चिप्स, लेकिन बेटा तो एक बार सोया फिर उठा ही नहीं, जानिए पूरी कहानी

सुनीता अपने पति चुनीलाल के साथ सीएम शिवराज से मिलने की हर संभव कोशिश की और उन्हें कामयाबी भी मिली. सीएम शिवराज से मिल कर बेटे का जीवन बचाने के लिए गुहार लगाई. सीएम शिवराज ने भी तत्काल 25 लाख रुपए की आर्थिक सहायता किया. राशि लेकर तत्काल भोपाल के एक निजी अस्पताल में लिवर प्रत्यारोपण कराया. मां सुनीता ने अपना लीवर देकर बैठे देवराज को दूसरा जीवनदान दिया. अब देवराज बिल्कुल स्वस्थ है.