स्कूल से रिटायर हुई मां तो बेटे ने हेलीकॉप्टर में कराई सैर, चांद पर बुक किया प्लॉट, गिफ्ट में भेंट की लाखों रुपए की चीजें

माता पिता हमारे जीवन के सबसे अनमोल उपहार है. हर व्यक्ति के जीवन में भगवान से भी पहले जिस का स्थान आता है वह और कोई नहीं बल्कि हमारे माता-पिता हैं. हमेशा माता-पिता अपने बच्चों को निस्वार्थ प्रेम करते हैं. वह अपने बच्चों की खुशियों के लिए अपनी खुशियों को कुर्बान कर देते हैं. माता-पिता का हमेशा सपना होता है कि उनका परिवार समृद्धि रहे जिसके लिए वह जीवन भर मेहनत के साथ काम करते हैं.

इसी बीच एक मामला सामने आया है जिसे जाने के बाद आप भी गर्व महसूस करेंगे. दरअसल यह पूरा मामला राजस्थान के सीकर जिले की स्थित लक्ष्मणगढ़ उपखंड क्षेत्र के घससू गांव का है. यहां पर आदर्श राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय के वरिष्ठ अध्यापिका विमला देवी के सेवानिवृत्ति पर उनके बेटे अरविंद कुमार ने हेलीकॉप्टर के जरिए फूलों की वर्षा कराई. इतना ही नहीं बल्कि बेटे ने अपनी मां को लाखों रुपए के उपहार भेंट किए.

आपको बता दे कि गुरु पूर्णिमा वरिष्ठ अध्यापिका विमला देवी रिटायर हुई थी. सेवानिवृत्त शिक्षक सुल्तान सिंह की धर्मपत्नी विमला देवी उपखंड क्षेत्र के आदर्श राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय में वरिष्ठ अध्यापिका के पद पर कार्यरत थी. विमला देवी के बेटे अरविंद कुमार ने माता-पिता सहित परिवार को हेलीकॉप्टर से सर कराया. इसके साथ साथ फूलों की वर्षा करा कर एक मिसाल कायम की है और रिटायरमेंट को यादगार बना दिया है.

जैसे एक गांव में हेलीकॉप्टर आने की जानकारी हुई तो हेलीकॉप्टर को देखने के लिए भारी मात्रा में भीड़ इकट्ठी हो गई. अरविंद ने लाखों रुपए खर्च कर दिल्ली से हेलीकॉप्टर बनवाया था अपने ही खेत में हेलीपैड तैयार करवाया. बता दें कि अरविंद ने 2015 में इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी की थी इसके बाद 5 साल खुद की आईटी कंपनी चलाई थी. इस दौरान जो भी उनकी कमाई हुई थी उससे मां के लिए उपहार भेंट किए.उसके बाद अरविंद ने पायलट की ट्रेनिंग लेने का मन बनाया.

आपको बता दें कि अरविंद ने अपने पेरेंट्स को लग्जरी थार, वर्चुअल मोटावस के अंदर एक घर और चार मंगल ग्रह में प्लॉट गिफ्ट कर रहे हैं. गांव सहित कई शहरों में अरविंद की काफी प्रशंसा हो रही है. इस व्यवस्था के लिए प्रशासन द्वारा माकूल व्यवस्था भी की गई. वही बेटे से मिले सरप्राइस पर मां विमला देवी काफी भावुक हो गईं. आज खुशी इस बात की है कि बेटे को जो संस्कार दिए उनका नतीजा है.

Read Also: