सावन में चमत्कार: सरयू नदी से निकला 30 किलो वजनी चांदी का शिवलिंग, देखने के लिए उमड़ी लोगों की भीड़

14 जुलाई 2022 से सावन का पावन महीना शुरू हो चुका है. सावन का महीना भगवान शिव को अति प्रिय है. शिवभक्त सावन के महीने का इंतजार बेसब्री से करते हैं. सावन के पावन महीने में भक्त भगवान शिव की पूजा अर्चना करते हैं ऐसी मान्यता है कि सावन के महीने में शिव जी अपने भक्तों की सारी मनोकामनाएं पूर्ण कर देते हैं.

सावन के महीने में शिव मंदिरों में भक्तों की भारी भीड़ देखने को मिलती है. सभी भक्त भगवान शिव की पूजा अर्चना व जलाभिषेक करके अपनी मनोकामना पूर्ण करने में लगे रहते हैं. इसी बीच उत्तर प्रदेश के सरयू नदी में एक बड़ा चमत्कार देखने को मिला है जिसे देखने के बाद वहां के लोग बेहद खुश नजर आ रहे हैं. जी हां, उत्तर प्रदेश के मऊ जिले में सरयू नदी में रेत के अंदर 30 किलो वजनी चांदी का एक शिवलिंग पाया गया है जिसकी दूर दूर तक चर्चा हो रही है.

दरअसल सावन के पावन महीने में चांदी का शिवलिंग मिलना किसी चमत्कार से कम नहीं है. जैसे ही नदी से शिवलिंग मिलने की जानकारी प्राप्त हुई तो इसे देखने के लिए भारी मात्रा में लोग एकत्रित हो गए. यह मामला पुलिस तक जा पहुंचा तो उसके बाद पुलिस ने मौके पर पहुंचकर शिवलिंग को अपने कब्जे में लिया. थाने ले आने के बाद आचार्य द्वारा शिवलिंग को मंदिर में लाया गया और रुद्राभिषेक किया गया. यह 30 किलो वजनी चांदी का शिवलिंग इंटरनेट पर खूब तेजी से वायरल हो रहा है.

मिली जानकारी के मुताबिक शनिवार की सुबह मऊ के दोहरीघाट कस्बा निवासी राममिलन निषाद नदी में स्नान करने के लिए गए हुए थे. इस दौरान उन्होंने पूजा के सामान को धोने के लिए नदी से मिट्टी निकालने शुरू की तभी राममिलन को रेत में कुछ दिखा. जब राममिलन को रहस्यमई चीज मिलने की उम्मीद हुई तो उन्होंने मिट्टी खोदना शुरू कर दिया.

इसी दौरान उन्होंने अपने मित्र राम चंद्र निषाद जो वहां मछली पकड़ रहे थे उनको अपनी मदद के लिए बुलाया और साथ मिलकर खुदाई की. जब मिट्टी को काफी गहरा खुद दिया गया तो उसके अंदर से एक भारी-भरकम चांदी का शिवलिंग प्राप्त हुआ जिसे देखने के बाद राममिलन और रामचंद्र दोनों ही आश्चर्य में पड़ गए.

जैसे ही लोगों को इस बात की सूचना मिली दूर दूर दूर से लोग शिवलिंग को देखने के लिए इकट्ठा हो गए. रामचंद्र और उसके परिवार वाले चांदी के शिवलिंग को अपने घर ले गए और साफ किया. इसी बीच जब पास के ही मंदिर के आचार्य श्याम जी पांडे को इसकी सूचना मिली तो वह भी वहां पर पहुंच गए और शिवलिंग को मंदिर ले आए.

30 किलो वजनी चांदी का यह शिवलिंग मेला राम बाबा मंदिर के बगल में शिव मंदिर के अंदर रखा गया है. लोग इसे महादेव का चमत्कार बता रहे हैं लोगों का ऐसा कहना है कि भोलेनाथ ने उन्हें साक्षात दर्शन दिया है. इस शिवलिंग की दूर-दूर तक चर्चा हो रही है और दूर-दूर से लोग इसे देखने के लिए इकट्ठा हो रहे हैं.