इस विधि से करें ”मां लक्ष्मी” को प्रसन्न, नहीं रहेगी धन दौलत की कमी

देवताओं में मां लक्ष्मी का स्थान सबसे श्रेष्ठ है। लक्ष्मी जी को धन धान्य व संपदा की देवी माना जाता है। मां लक्ष्मी भगवान विष्णु की पत्नी हैं जो उनके साथ वैकुंठ लोक में निवास करती हैं। मां लक्ष्मी अपने भक्तों से बहुत जल्द प्रसन्न हो जाती हैं और उनकी सारी इच्छाएं पूर्ण करती हैं। यदि भक्त सच्चे मन से लक्ष्मी जी की आराधना करें तो माता उसकी मनोकामनाएं जरूर पूर्ण करती हैं।

यह भी पढ़ें: व्हेल मछली की उल्टी ने गरीब मछुआरों को रातोंरात बनाया करोड़पति, लगी 11 करोड़ की लॉटरी

शास्त्रोक्त विधि से करें पूजन-: मां लक्ष्मी को धन संपदा और ऐश्वर्य का प्रतीक माना गया है। कहा जाता है कि जिस पर भी मां लक्ष्मी की कृपा होती है उसे कभी भी धन धान्य की कमी नहीं होती और वह एक विलासी जीवन जीता है। शास्त्रों में बताई गई विधि से अगर आप भी मां लक्ष्मी का विधिवत पूजन करें तो आप पर भी महालक्ष्मी की कृपा हो सकती है।

यह भी पढ़ें: टीवी के सबसे महंगे भगवान शिव थे मोहित रैना, करते थे 12 घंटे शूटिंग, चार्ज करते थे मोटी रक़म

अचूक है गज लक्ष्मी व्रत-: शास्त्रों में गज लक्ष्मी व्रत का प्रभाव अचूक बताया गया है और इसका फल तुरंत प्राप्त होता है। महाभारत में जब युधिष्ठिर जुए में पांडवों से अपना सब कुछ हार गए थे तब भगवान श्रीकृष्ण ने युधिष्ठिर को यह व्रत करने की सलाह दी थी जिसकी वजह से पांडव पुनः अपने राज पाठ और ऐश्वर्य को प्राप्त कर सके।

यह भी पढ़ें: 8 सालों से नहीं हो रहा था बच्चा, फिर देवी मां के इस मंदिर का प्रसाद ग्रहण करते ही मिला संतान सुख

इस दिन मां लक्ष्मी की पूजा के लिए हाथी पर सवार कमल आसन पर बैठी मां लक्ष्मी की चित्र की पूजा करें क्योंकि इस दिन मां लक्ष्मी हाथी पर सवार होकर आती हैं। इसीलिए इस त्यौहार को गज लक्ष्मी व्रत कहा जाता है। पितृपक्ष के अष्टमी के दिन किसी भी ब्राह्मण या सुहागन को धातु की चीजें जैसे सोना चांदी या कलश जैसी चीजें दान में दें।

यह भी पढ़ें:घर में रखी कछुए की मूर्ति बना सकती है आपको धनवान, बस इस बात का ध्यान रखना हैं जरूरी

साथ ही इत्र, आटा, घी और मक्खन भी भेंट में दें। इसके साथ ही किसी अविवाहित कन्या को नारियल, मिश्री, मखाने, सूखे मेवे और चांदी की हाथी भेंट करें। यह चीज़ें आप अपनी पुत्री को भी दे सकते हैं। ऐसा माना जाता है कि इस विधि से पूजन करने से मां लक्ष्मी बहुत प्रसन्न होती हैं और भक्तों को धन दौलत की प्राप्ति होती है।