कुदरत का करिश्मा, महिला ने एक साथ दिए 4 बच्चों को जन्म, 7 बच्चों का पिता बना रिक्शा चालक

माता-पिता बनने का एहसास इस दुनिया का सबसे खूबसूरत एहसास माना जाता है. एक मां प्रसव पीड़ा सहकर अपने बच्चे को जन्म देती है और वह अपने बच्चे को अपनी जान से ज्यादा प्यार करती है. शादी के बाद हर शादीशुदा जोड़ा यही चाहता है कि उसको जल्द से जल्द संतान सुख की प्राप्ति हो परंतु कई मामले हमें देखने और सुनने को मिल जाते हैं जिनमें शादीशुदा जोड़े जीवन भर संतान सुख के लिए तड़पता रहता है परंतु उसकी कोई भी संतान नहीं हो पाती.

जब कोई मां संतान सुख से वंचित हो जाती है तो उसके दुख का अंदाजा कोई भी नहीं लगा सकता. मां तो बच्चे की लालसा में तड़पती रहती है लेकिन कहते हैं ना भगवान के घर देर है अंधेर नहीं और जब भी वह देता है तो छप्पर फाड़ कर देता है.. कुछ ऐसा ही मामला उत्तर प्रदेश के आगरा से सामने आया है जहां पर ऑटो चालक की पत्नी ने एक साथ 4 बच्चों को जन्म दिया है.

जी हां, लोग इसे कुदरत का करिश्मा कह रहे हैं. आगरा के रामबाग की रहने वाली एक महिला ने एक साथ 4 बच्चों को जन्म दिया है. सोशल मीडिया पर खबर तेजी से वायरल हो रही है. यह मामला पूरे इलाके में एक चर्चा का विषय बना हुआ है. इसमें सबसे खास बात यह है कि जच्चा और बच्चा सभी स्वस्थ हैं और सभी अस्पताल में डॉक्टर की निगरानी में है.

मिली जानकारी के मुताबिक प्रकाश नगर मोहल्ले में रहने वाली मनोज कुमार की पत्नी खुशबू की तबीयत सोमवार को अचानक खराब हो गई. मनोज कुमार ने अपनी पत्नी को ट्रांस यमुना इलाके के अस्पताल में भर्ती कराया जहां पर जांच के बाद पता चला कि महिला गर्भवती है. अल्ट्रासाउंड के दौरान दो जुड़वा बच्चों के बारे में पता चला.

अल्ट्रासाउंड रिपोर्ट के बाद माना जा रहा था कि महिला के पेट में जुड़वा बच्चे होंगे लेकिन ऑपरेशन के बाद महिला ने 4 स्वस्थ बच्चों को जन्म दिया. हालांकि यह डिलीवरी इतनी आसान नहीं थी लेकिन डॉक्टरों की मेहनत से जच्चा और बच्चा पूरी तरह से स्वस्थ हैं. बता दे कि खुशबू और मनोज पहले से ही तीन लड़कियों के माता-पिता हैं इस तरफ खुशबू और मनोज 7 बच्चों के माता-पिता बन गए हैं.

आपको बता दें कि बच्चों के पिता मनोज कुमार ऑटो चालक हैं. मनोज कुमार आगरा में ही ऑटो चलाते हैं. सामान्य परिवार से होने की वजह से इनकी आर्थिक स्थिति इतनी मजबूत नहीं है. उनकी पहले से ही तीन बेटियां हैं लेकिन अब एक साथ चार बच्चों ने जन्म लिया है जिसके चलते अपने बच्चों के लालन पोषण को लेकर मनोज कुमार बहुत चिंतित हैं.

हालांकि अस्पताल के संचालक ने बच्चों की पढ़ाई लिखाई को लेकर मदद का आश्वासन भी दिया है. वही बच्चों के पिता का कहना है कि बच्चों को पालने के लिए अब वह पहले से ज्यादा मेहनत करेंगे और अपने बच्चों को बेहतर से बेहतर जिंदगी प्रदान करेंगे.

Read Also: