किन्नर बच्चा जानकर मां ने निकाला था घर से बाहर, आज मेहनत करके बना देश का पहला ट्रांसजेंडर पायलट

मां को ममता की देवी कहा जाता है. मां और बेटे का रिश्ता इस दुनिया में सबसे पवित्र रिश्ता होता है. अत्यंत पीड़ा सहकर मां अपने बेटे को जन्म देती है वह अपने बच्चे की आंख में एक आंसू भी बर्दाश्त नहीं कर सकती. लेकिन आज हम आपको एक ऐसे मामले के बारे में बताने जा रहे हैं जिसने ममता पर कलंक लगा दिया है.

Inspirational: The transgender child who was thrown out of the house due to shame by the family, today the same son became the country's first transgender commercial pilot

एक माता पिता ने अपने बच्चे को केवल इसलिए खुद से दूर कर लिया क्योंकि उन्हें पता चल गया कि उनका बच्चा किन्नर हैं. जिस बच्चे को मां बाप द्वारा घर से निकाल कर ठुकरा दिया गया था आज उस बच्चे ने ऐसा काम कर दिखाया है कि वह पूरे देश का अभिमान बढ़ा रहा है. आइए जानते हैं इस बच्चे के बारे में..

Inspirational: The transgender child who was thrown out of the house due to shame by the family, today the same son became the country's first transgender commercial pilot

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इस किन्नर बच्चे का नाम एडम हैरी है जो कि बड़ा होकर पूरे देश का गौरव बढ़ा रहा है. एडम हैरी अब देश का पहला ट्रांसजेंडर पायलट बनकर सामने आया है. दरअसल जब हैरी के माता-पिता को इस बात का खुलासा हुआ कि उनका बच्चा एक किन्नर है तो उन्होंने उसे घर से बाहर निकाल दिया और उससे पूरे रिश्ते-नाते खत्म कर लिया.

Inspirational: The transgender child who was thrown out of the house due to shame by the family, today the same son became the country's first transgender commercial pilot

इतना ही नहीं घर से निकलते वक्त एडम हैरी के पास पैसे भी नहीं थे और उसे अकेले ही फुटपाथ पर सोना पड़ता था. इस संघर्ष भरी जिंदगी के बावजूद एडम हैरी ने कभी हार नहीं मानी और जीवन में कुछ कर दिखाने की ठान ली. हैरी का बचपन से ही पायलट बनने का सपना था अपने सपने को साकार करने के लिए उसने प्राइवेट पायलट लाइसेंस का एग्जाम दिया.

Inspirational: The transgender child who was thrown out of the house due to shame by the family, today the same son became the country's first transgender commercial pilot

साल 2017 में जोहानिसबर्ग में लाइसेंस एक समय ऐसा भी आया था जब हैरी को अपना खर्चा निकालने के लिए एक मामले से जूस की दुकान पर काम करना पड़ा. यहां पर उसे लोग कुछ निगाहों से देखा करते थे लेकिन इसके बावजूद भी एडम हैरी ने कभी हार नहीं मानी और निरंतर आगे बढ़ने का प्रयास किया. अपने सोशल जस्टिस विभाग से अपनी पढ़ाई के लिए मदद मांगी जिसके बाद उसे एशियन एकेडमी को ज्वाइन करने की सलाह दी गई.

Inspirational: The transgender child who was thrown out of the house due to shame by the family, today the same son became the country's first transgender commercial pilot

एडम हैरी सबसे बुरे वक्त से गुजर रहे थे तब केरल सरकार ने उन्हें सहायता देते हुए राज्य समाजिक न्याय डिपार्टमेंट की ओर से 22 लाख रुपए की स्कॉलरशिप दिलवाई. इस सहायता के चलते वह एक कमर्शियल पायलट बन कर सामने आए. आखिरकार एडम हैरी ने अपने सपने को सच कर दिखाया और आज पूरा देश उन्हें सलाम कर रहा है.