केजरीवाल ने की फिल्म “द कश्मीर फाइल्स” की बुराई, अभिनेता अनुपम खेर ने दिया पलटवार जवाब, यहां पढ़ें

फिल्म निर्माता विवेक रंजन अग्निहोत्री की फिल्म “द कश्मीर फाइल्स” सिनेमाघरों में जमकर चल रही है. यह फिल्म दर्शकों को इतनी पसंद आ रही है कि दर्शक इस फिल्म की तारीफ करते नहीं थक रहे. आपको बता दें यह फिल्म 1990 में हुए कश्मीरी पंडितों के नरसंहार के ऊपर बनाई गई है. वहीं भारी मात्रा में लोग इस फिल्म का समर्थन कर रहे हैं तो वही कुछ लोग इस फिल्म का विरोध करने में लगे हैं.

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल इस फिल्म का विरोध करते नजर आ रहे हैं उनके क्रूर और असंवेदनशील प्रतिक्रिया के लिए अभिनेता अनुपम खेर ने फटकार लगाई है. अनुपम खेर ने इंटरव्यू में यह साझा किया कि सीएम केजरीवाल दिल्ली विधानसभा में स्टैंड अप कॉमेडियन की भूमिका निभाने का प्रयास कर रहे थे. उन्होंने फिल्म “द कश्मीर फाइल्स” पर प्रतिक्रिया की आलोचना करते हुए दावा किया कि एक अनपढ़ व्यक्ति भी इस तरह से नहीं बोलेगा.

आपको बता दे दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने विधानसभा में कहा था की सरकार इस फिल्म को टैक्स फ्री घोषित कर रही है. इससे अच्छा है कि इस फिल्म को यूट्यूब पर अपलोड कर दिया जाए फिल्म फ्री हो जाएगी और घर कोई इसे देख पाएगा. कुछ लोग कश्मीरी पंडितों के ऊपर करोड़ों रुपए कमा रहे हैं और फिल्म के पोस्टर चिपका रहे हैं.

अब इसके बाद अनुपम खेर ने टाइम्स नाउ से बातचीत की और कहां की केजरीवाल के बयान के बाद उनका मानना है कि हर सच्चे भारतीय को फिल्म थिएटर में देखनी चाहिए क्योंकि यह फिल्म उन हजारों कश्मीरी हिंदुओं के प्रति हैं. जिन्हें उनके घरों से निकाल दिया गया था.. महिलाओं के साथ बलात्कार किया गया और लोगों को मार डाला गया.

उन्होंने आगे कहा कि फिल्म “द कश्मीर फाइल्स” को सामने लाने के बाद लोग स्वीकार करते हैं इसके बारे में बुरा महसूस करते हैं और कहते हैं हमें नहीं पता था कि ऐसा नरसंहार भी हमारे साथ हुआ है वहीं कुछ लोग इस बात का दावा कर रहे हैं कि यह एक प्रचार फिल्म है और एक मनगढ़ंत कहानी है जो लोग ऐसा सोचते हैं यह शर्मनाक की बात है.

अनुपम खेर ने आगे यह कहते हुए कहा है कि एक अनपढ़ गवार आदमी भी ऐसी बात नहीं करता है. आपको बता दें कि विवेक रंजन आखिरी होत्री की फिल्म द कश्मीर 5 से 11 मार्च को सिनेमाघरों में रिलीज हुई थी. इस फिल्म में अनुपम खेर, मिथुन चक्रवर्ती, पल्लवी जोशी, दर्शन कुमार और अन्य कलाकारों ने अभिनय कर दर्शकों का दिल जीत लिया है. यह फिल्म 1990 के दशक में कश्मीर घाटी से कश्मीरी पंडितों के पलायन के ऊपर आधारित है.