धर्मेंद्र के ट्रू कॉपी थे उनके भाई वीरेंद्र देओल, 40 की उम्र में हो गई थी शूटिंग के दौरान ह’त्या

आज बॉलीवुड के हीमैन यानी धर्मेंद्र को कौन नहीं जानता है. धर्मेंद्र फिल्म जगत के प्रसिद्ध सुपरस्टार हैं. धर्मेंद्र का जन्म 8 दिसंबर 1935 को हुआ था. धर्मेंद्र भारतीय अभिनेता, निर्माता और राजनीतिज्ञ भी है .बॉलीवुड के हीमैन के नाम से प्रसिद्ध धर्मेंद्र ने पांच दशकों के करियर में 300 से अधिक फिल्मों में काम किया है.

1997 में उन्हें हिंदी सिनेमा में उनके योगदान के लिए फिल्मफेयर लाइफ टाइम अचीवमेंट अवार्ड भी मिला था. इतना ही नहीं वह भारत की 15वीं लोकसभा के अध्यक्ष थे जो भारतीय जनता पार्टी से राजस्थान में बीकानेर निर्वाचन क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते थे. 2012 में धर्मेंद्र को भारत सरकार द्वारा भारत के तीसरे सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था.

दरअसल वीरेंद्र सिंह देवल और धर्मेंद्र चचेरे भाई थे लेकिन दोनों में सगे भाइयों से भी अधिक प्यार था. वीरेंद्र की मृत्यु के दशकों बाद उनके बेटे रणदीप ने अब उनके पिता पर एक बार भी बनाई है. जिसमें धर्मेंद्र और उनके बेटे बॉबी देओल भी थे. धर्मेंद्र की तरह उनके भाई वीरेंद्र सिंह देवल भी फिल्म इंडस्ट्री पर छाए रहे. वह पंजाबी सिनेमा के एक सबसे बड़े सुपरस्टार थे.

80 के दशक में वीरेंद्र सिंह देवल को अपनी फिल्म में लेने के लिए निर्माताओं और निर्देशकों के बीच एक प्रतियोगिता हुआ करते थे लेकिन जैसे-जैसे वीरेंद्र सफलता की सीढ़ी चढ़ते गए हैं वैसे-वैसे उनके कई दुश्मन भी बढ़ते चले गए. वीरेंद्र ने ना सिर्फ पंजाबी बल्कि हिंदी फिल्मों में भी हाथ आजमाया है. उन्होंने खेल मुकद्दर का और दो चेहरे जैसी फिल्में बनाई है और यह दोनों फिल्में सफल रही.

वीरेंद्र ने अपने करियर की शुरुआत 1975 में धर्मेंद्र के साथ ही की थी. दोनों फिल्म तेरी मेरी एक जिंदा में नजर आए थे. बॉलीवुड में जहां एक तरफ धर्मेंद्र का सिक्का चलने लगा तो वहीं दूसरी तरफ वीरेंद्र भी सुपरस्टार बन गए थे. कहा जाता है कि उनकी यही कामयाबी उनकी दुश्मन बन गई थी. 6 दिसंबर 1988 को वीरेंद्र सिंह फिल्म जट ते जमीन की शूटिंग कर रहे थे शूटिंग के दौरान ही उनकी मौत हो गई थी.

हालांकि कई मीडिया रिपोर्ट्स में यह भी कहा गया है कि वीरेंद्र को आतंकवादियों ने मार गिराया था. उस समय पंजाब में आतंकी गतिविधियां अपने चरम सीमा पर थी. फायरिंग की घटनाएं आम थी. मना करने पर भी वीरेंद्र सिंह सूट पर चले गए और कुछ अज्ञात लोगों ने उनकी हत्या कर दी. हालांकि इसके पीछे की क्या सच्चाई है?? यह आज तक पता नहीं चल पाया है?? [Image Source: Google]

धर्मेंद्र और वीरेंद्र दिखने में काफी एक जैसे थे. यही वजह थी कि उन्हें पंजाबी फिल्म का धर्मेंद्र भी कहा जाता था. वीरेंद्र सिंह अपने भाई धर्मेंद्र के परिवार के बहुत करीब थे. मृत्यु के समय वीरेंद्र सिंह देओल की उम्र मात्र 40 साल थी.