फ्रांस की लड़की को हुआ भारतीय गाइड से प्यार, शादी कर गांव में बिता रही है जीवन

हमारे भारत देश में यह पंक्ति बहुत ही प्रचलित है अतिथि देवो भवः । अर्थात जो भी कोई हमारे विराट संस्कृति से परिपूर्ण विश्व गुरु देश भारत के दर्शन के लिए आता है वह यहीं का होकर रह जाता है। हमारे पावन देश भारत की सोंधी माटी इतनी पवित्र है जो हर किसी को अपना लेती है । चाहे वह किसी धर्म जाति या रिवाज का हो उसे अपने आंचल में समेट ही लेती है। ऐसी ही एक कहानी है फ्रांस की रहने वाली मारी का जो आईं थी भारत का दर्शन करने लेकिन वह भारतीय बन गईं। आइए जानते हैं।

यह भी पढ़ें-: कहानी उस कुली की, जिसने रेलवे स्टेशन के फ्री Wi-Fi से पढ़कर दी UPSC की परीक्षा और बन गया IAS ऑफिसर

दरअसल फ्रांस देश की रहने वाली मारी अपने दोस्तों और परिवार के साथ भारत घूमने के लिए आईं थीं। राजस्थान भ्रमण के दौरान उनकी मुलाकात गाइड धीरज से हुई दोनों में दोस्ती हो गई। दो महीने भारत दर्शन करते करते दोनों में प्यार हो गया और दोनों ने शादी कर ली। दोनों अब खुशहाल जीवन व्यतीत कर रहे हैं । मारी के पिता डॉक्टर और माता टीचिंग लाइन में हैं । मारी को भारतीय संस्कृति और यहां के लोग इतने पसंद आए कि उन्होंने भारत में बसने का फैसला कर लिया। मारी अपने परिवार के साथ मजे में रह रही हैं।

यह भी पढ़ें-: 43 साल पहले शेयर खरीदकर भूल गया था यह शख्स, आज 1448 करोड़ रुपये हुई कीमत

जैसा देश वैसा भेष- परिस्थितियों के अनुसार अपने आप को उस स्थिति में ढाल लेना इंसान का सबसे बड़ा गुण होता है। तैंतीस वर्षीय मारी इस कहावत को पूरी तरह चरितार्थ कर रही हैं। गांव के लोगों के बीच रहकर मारी टूटी फूटी हिंदी बोलना सीख रही हैं। वहीं गांव में वह अपने घर का निर्माण भी खुद कर रही हैं। मिस्त्री के साथ रहकर घर बनाने का काम और घर के सारे काम खुद ही करती हैं। मारी दो बच्चों की मां है और ऑनलाइन टीचिंग से जुड़कर पेरिस के बच्चों को ट्यूशन भी देतीं हैं।

यह भी पढ़ें-: कौन है रतन टाटा के कंधे पर हाथ रखने वाला ये शख्स? असलियत जान चौड़ी हो जाएंगी आपकी आंखें

संस्कृति को अपनाया- गांव की महिलाओं की तरह है सलवार सूट साड़ी और दुपट्टा पहनती हैं। मारी अपनी टूटी-फूटी हिंदी में कहती हैं की मुझे साड़ी पहन कर बहुत गर्व महसूस होता है। वह रोज पूजा करती हैं और शाम को चौबारे पर दीपक भी जलाती हैं। मारी भारतीय संस्कृति में पूरी तरह रंग चुकी है और उसका लुत्फ़ ले रही हैं ।

यह भी पढ़ें-: दुनिया के सामने कुंवारे रहने वाले सलमान खान की 17 साल की बेटी और पत्नी रहते हैं दुबई में, यहां पढ़ें

पसंद है भारतीय पकवान- मारी एक कुशल गृहणी की तरह अपने पूरे परिवार को संभाल कर रखे हैं। वह अपने परिवार की पसंद ना पसंद का पूरा ख्याल रखती हैं। वह खाना अपने हाथों से ही बनाती हैं। खाना बनाने में ज्यादातर अंकुरित अनाज का इस्तेमाल करती हैं वह भी मसाले और तेल का इस्तेमाल कम से कम करती हैं। मारी बताती हैं कि उन्हें गांव के पारंपरिक पकवान दाल बाटी चूरमा बहुत पसंद है और अक्सर खास मौकों पर इसे बनाती हैं। मारी अपने परिवार के साथ बेहद खुश हैं.