मिसाल: शादी के 6 महीने बाद गुजर गया बेटा, बहू को पढ़ाया, लेक्चरर बनाया, फिर धूमधाम से कर दी शादी

son-passed-away-after-6-months-of-marriage-taught-daughter-in-law-made-lecturer: आज जमाना बदलाव की ओर है। काफी चीजें ऐसी हो रही है जो पहले के जमाने में स्वीकार्य नहीं थी। लेकिन अब नई पीढ़ी के लोग पुरानी रूढ़िवादिता को तोड़ते हुए नई सोच के साथ आगे बढ़ रहे हैं।

इसका ताजा तरीन मिसाल है जहां एक सास ने अपनी विधवा बहू को खूब पढ़ाया लिखाया और उसे कॉलेज का लेक्चरर बना दिया। फिर उसके बाद धूमधाम से उसकी शादी भी कर दी।

यह भी पढ़े-: दुनिया का सबसे महंगा हार पहनती है अंबानी ख़ानदान की बहू, गिनीज़ बुक़ ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में दर्ज़ है इसका नाम

पेशे से शिक्षिका है महिला :

इस महिला का नाम कमला देवी है। यह मामला राजस्थान के सीकर जिले का है। सरकारी शिक्षिका कमला देवी ने धूमधाम से अपनी बहू की शादी कर दी।शादी करने से पहले उन्होंने अपनी बहू को पढ़ा लिखा कर लेक्चरर बना दिया..

ब्रेन स्ट्रोक ने ली बेटे की जान-:

कमला देवी के बेटे का नाम शुभम था। दोनों की शादी 2016 में धूमधाम से हुई थी और यह शादी पूरी तरह दहेज रहित थी। शुभम को अपनी एमबीबीएस की पढ़ाई पूरी करनी थी इसलिए वह शादी के तुरंत बाद ही किर्गिस्तान चले गए जहां 6 महीने बाद ही ब्रेन स्ट्रोक से उनकी मृत्यु हो गई।

यह भी पढ़े-: बेटे की जिद में आकर 56 साल की उम्र में अभिनेता प्रकाश राज ने की दूसरी शादी, वायरल हो रही तस्वीरें..

बेटी से बढ़कर माना बहू को-:

छोटी उम्र में विधवा होने के बाद सुनीता को अपनी सास से अपनी माँ से ज़्यादा प्यार मिला। अपनी सास कमला देवी के कहे अनुसार सुनीता ने पहले भी बीएड किया फिर एमए किया।

उसके बाद प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी शुरू कर दी। आखिरकार सुनीता की मेहनत ने रंग दिखाया और वह हिस्ट्री लेक्चरर के पद पर चयनित हो गई। वाकई कमला देवी ने समाज के लिए एक बड़ी मिसाल पेश की है। हम लोगों को उनसे सीख लेनी चाहिए।

यह भी पढ़े-: इस अभिनेत्री ने फिल्मों में ‘माँ’ बन कर जीता था सबका दिल, निरूपा राय को असल जिंदगी में अपने ही बच्चों से मिला था ‘गम’…!