सावन के महीने में भूलकर भी ना करें यह गलतियां, नाराज होंगे भोलेनाथ, जीवन में मच सकता है तांडव

सावन का महीना 14 जुलाई 2022 से शुरू हो चुका है. सावन महीना भगवान शिव को अति प्रिय है ऐसी मान्यता है कि इस महीने में भोलेनाथ कैलाश पर्वत छोड़कर धरती पर विचरण करने आते हैं और अपने भक्तों के ऊपर कृपा बरसाते हैं. साथ ही देवशयनी एकादशी पर भगवान विष्णु के योग निंद्रा में जाने के बाद 4 महीने तक शिवजी ही संसार का संचालन संभालते हैं.

इसलिए लोग शिवजी को प्रसन्न करने के लिए सावन के पावन महीने में विशेष पूजा अभिषेक करते हैं और भोलेनाथ को पसंद करते हैं. साथ ही सावन में कुछ नियमों का पालन करना भी बेहद अनिवार्य है. सावन के महीने में की गई गलतियां शिवजी को नाराज कर देती हैं इस कारण जीवन में दुख दरिद्रता आ जाता है.

सावन महीने में किसी भी दिन स्नान के बिना नहीं रहना चाहिए. सावन के महीने में सुबह जल्दी स्नान करके साफ कपड़े पहने और रोजाना भगवान शिव को जल और बेलपत्र चढ़ाएं.

सावन महीने में गलती से भी तामसिक भोजन का सेवन नहीं करना चाहिए. इस महीने में लहसुन, प्याज, मूली, बैंगन आदि का सेवन करना सही नहीं है. सावन महीना में शराब का सेवन करने की गलती भूल से भी ना करें. ऐसा करने से भगवान शिव क्रोधित हो जाते हैं.

सावन महीने में भक्तों को अपना पूरा ध्यान शिव की आराधना में लगाना चाहिए. इस महीने विलासिता से दूर रहना चाहिए जमीन पर सोना चाहिए और ज्यादा से ज्यादा भगवान शिव की साधना-तपस्या करना चाहिए.

सावन महीने में भूल से भी दाढ़ी बाल नहीं बनाने चाहिए और साथ ही नाखून भी नहीं काटना चाहिए. सावन के महीने में शरीर पर तेल लगाने की भी मनाही होती है ऐसा करना आपको कई बीमारियों का शिकार बना सकता है.

सावन के पावन महीने में रुद्राभिषेक का बड़ा महत्व माना जाता है इसमें शिवलिंग का दूध, दही, शहद जैसे पंचामृत से अभिषेक किया जाता है जो कि शिवजी को दूध अर्पित किया जाता है इसलिए इस महीने दूध पीने की भी मनाही होती है.

सावन महीने में अपने मन को पवित्र रखने की पूरी कोशिश करें. मन में बुरी और नकारात्मक विचार ना लाएं ऐसा करने से भगवान शिव नाराज हो सकते हैं.

(Disclaimer: यहां ऊपर लिखी गई सारी बातें मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित हैं। Mybaatchit इसकी पुष्टि नहीं करता है।)