भारत घूमने आई आस्ट्रेलियन महिला को मंदिर के पुजारी से हुआ प्यार, शादी करके खुशहाली से बिता रही जीवन

हमारा देश भारत संस्कारों और परंपराओं का धनी देश है। हमारी संस्कृति ही ऐसी है कि यहां जो भी आता है इसी के रंग में रंग जाता है। दुनिया की सबसे उत्तम देशों में शुमार भारत वर्ष विश्व के अग्रणी देशों में गिना जाता है। यहां की मिट्टी किसी से भी भेदभाव नहीं करती और जो भी यहां आता है उसे अपने आंचल में छुपा लेती हैं।

ऐसा ही एक मामला सामने आया है जहां एक ऑस्ट्रेलियन महिला को उत्तराखंड के श्रीनगर के प्रसिद्ध पैठण धारा मंदिर के पूजा पाठ की परंपराएं इतनी पसंद आई कि उसने मंदिर के पुजारी योगी सिद्धनाथ महाराज बाबा बर्फानी से ही शादी रचा ली।

योग विद्या और संस्कृति ने मन मोहा-: इस ऑस्ट्रेलियन मूल महिला का नाम जूलिया है। जूलिया को भारतीय संस्कृति और रीति रिवाज़ में अटूट श्रद्धा है। जूलिया खुद योग विद्या में पारंगत हैं।वह आस्ट्रेलिया में लोगों को योग की ट्रेनिंग भी देती हैं। उनका अपना एक आश्रम भी है जिसे लोग शांति द्वार के नाम से जानते हैं।

मेडिटेशन ने किया प्रभावित-: जूलिया मेडिटेशन सीखने इंडिया आई थी। जब उन्हें पता चला कि भारत की देवभूमि उत्तराखंड है तो उन्होंने उत्तराखंड जाने का निश्चय किया। उत्तराखंड के बद्रीनाथ में ही उनकी मुलाक़ात बाबा सिद्धनाथ से हुई। उसके बाद वह चमोली में महेश्वरी आश्रम में रहकर बाबा से योग व मेडिटेशन सीखने लगी।

तलाक़शुदा है जूलिया-: जूलिया एक तलाकशुदा महिला हैं। उनके दो बच्चे भी हैं। बड़ा बेटा 14 साल का है जो आस्ट्रेलिया में रहकर पढ़ाई करता है और छोटा बच्चा सिर्फ 4 साल का है। महंत से रोज मुलाक़ात होने से वह बच्चा महंत जी को पिता जी कहकर संबोधित करता था।

इसको देखकर ही जूलिया ने बाबा के सामने शादी का प्रस्ताव रखा। उसके बाद मंदिर के सदस्य गणों ने धूमधाम से पूरे हिंदू रीति-रिवाजों से जूलिया और बाबा सिद्धनाथ का विवाह संपन्न कराया। बाबा ने उस छोटे बच्चे को गोद भी ले लिया है। जूलिया अब परिवार के साथ सुखमय जीवन व्यतीत कर रही हैं।