मरने के 5 घंटे बाद फिर जिंदा हुआ शख्स, बताया स्वर्ग से जुड़े कुछ गहरे राज

इस दुनिया में आए दिन कुछ ना कुछ ऐसी घटनाएं घटित होती रहती है जिसके बारे में सुनने के बाद विश्वास कर पाना बेहद मुश्किल हो जाता है. पर जब लोग इस घटना को अपनी आंखों से देखते हैं तो फिर उन्हे नकार भी नहीं पाते. आज इन दिनों एक ऐसी ही घटना सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रही है इस खबर के बारे में यह दावा किया जा रहा है कि मौत के बाद एक इंसान फिर से जीवित होकर लोगों के बीच आ गया. इस तरह की घटना हम सब ने अक्सर फिल्मों में देखिए. मगर आज हम आपको असल जिंदगी से जुड़ी इस घटना के बारे में बताएंगे.

खबरों के मुताबिक यह घटना अलीगढ़ के अतरौली के अंतर्गत कैथल गांव का बताया जा रहा है. ऐसा कहा जा रहा है कि इस गांव में रहने वाले रामकिशोर एक गंभीर बीमारी से ग्रसित हैं जिस वजह से कुल दिन पहले उनका निधन हो गया था. उनके निधन हो जाने के बाद उनके परिवार के सदस्य काफी ज्यादा घबरा गए. परिवार में मौजूद हर एक शख्स उनके निधन के शोक में डूबा हुआ था.

घर में चारों तरफ विलाप करने की आवाज सुनाई दे रही थी मृत्यु की खबर मिलने के बाद उनके परिवार और रिश्तेदार के सदस्य पर उनके अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए घर आ गए थे. सभी सदस्यों के घर आ जाने के बाद उनके अंतिम संस्कार की तैयारी शुरू हो गई उसी वक्त कुछ ऐसा हुआ जिसे देखकर लोगों के पैरों तले जमीन खिसक गई. परिवारवालों के मुताबिक ऐसा बताया गया है कि जब परिवार के सभी सदस्य उनका अंतिम संस्कार करने कि पहले उनके शव को नहलाने के बाद अर्थी पर रखा तो उस वक्त उनके शरीर में अचानक से हलचल होने लगी.

अचानक से उनके शरीर में हलचल देख वहां खड़े लोग हैरान हो गए. किसी को उस वक्त यह समझ नहीं आ रहा था कि आखिरकार यह हो क्या रहा है.. उनके अचानक से जिंदा हो जाने के बाद वहां खड़े सारे लोग भयभीत हो गए. उठने के बाद उन्होंने बताया कि शायद यमदूत से गलती हो गई थी जिसकी वजह से वह किसी और के प्राण लेने की वजह है उनके ही प्राण लेकर चला गया था. मौत के बाद एक बार फिर से जिंदा होकर धरती पर वापस आने वाले राम किशोर ने लोगों को यह बताया कि पिछले 5 घंटे में हुई घटनाओं के बारे में उन्हें ज्यादा कुछ तो नहीं..

पर हां जहां उन्हें लेकर जाया गया था वहां एक बैठक चल रही थी वहां उस बैठक में एक महात्मा मौजूद थे जो बारी-बारी हर व्यक्ति से बात कर रहे थे. जब रामकिशोर की बारी आई तो उस महात्मा ने कहा कि इन्हें अभी क्यों ले आए हो अभी इनकी जिंदगी जीने का समय बाकी है. इसके साथ ही उस महात्मा ने और भी कई सारे सवाल किए जिसके तुरंत बाद अचानक से धक्का दे दिया गया और जब आंखें खुली तो वह अपने परिवार के सदस्य के पास खुद को पाया.