घर में रखी कछुए की मूर्ति बना सकती है आपको धनवान, बस इस बात का ध्यान रखना हैं जरूरी

A statue of a turtle kept in the house: आप लोगों ने अक्सर लोगों के घरों या दफ्तरों में कछुए की मूर्ति रखी हुई देखी होगी. लेकिन क्या आप जानते हैं कि कछुए की मूर्ति क्यों रखी जाती है और इसे रखने की सही दिशा क्या है. दरअसल आपको बता दे चीनी वास्तु शास्त्र के मुताबिक कछुए को घर मे रखना बहुत शुभ माना गया है. हिंदू धर्म में भगवान विष्णु के कच्छप अवतार को बहुत ही महत्वपूर्ण माना जाता है. कछुए की मूर्तियों का इस्तेमाल काफी समय से किया जाता आ रहा है.

वास्तु शास्त्र के अनुसार कछुए को भगवान विष्णु का रूप माना गया है इसलिए घर या दफ्तर में इसे रखने से माता लक्ष्मी का आगमन होता है. और साथ ही यह सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह करता है. लेकिन आपको बता दें कि इसे रखने की एक निश्चित दिशा निर्धारित है. अगर आप इसे गलत दिशा में रखते हैं तो इसके शुभ की जगह अशुभ परिणाम देखने को मिल सकते है आइए जानते हैं इनसे जुड़े लाभ..

इच्छा पूरी करने के लिए
वास्तु शास्त्र के अनुसार कछुए का इस्तेमाल अपनी इच्छा को पूर्ण करने के लिए भी किया जाता है. इसके लिए धातु से बना कछुआ कर दे जो खुल सकता है इसके साथ ही एक पीले रंग के कागज पर विश लिखें और उसे कछुए के अंदर रख दे जिसके बाद कछुए को लाल रंग के कपड़े पर रखें. इसके बाद मूर्ति को ऐसी जगह पर रखें जहां आप उसे नियमित रूप से देख सके. ऐसा माना जाता है कि ऐसा करने से आपकी इच्छा बहुत जल्द पूरी होती है.

नेगेटिव एनर्जी से बचाता है कछुआ
वास्तु शास्त्र के अनुसार कछुए की मूर्ति को घर के पिछले हिस्से में रखना चाहिए. ऐसा माना जाता है कि घर में पॉजिटिव एनर्जी बनी रहती है और साथ में नेगेटिव एनर्जी से बचने के लिए कछुए को मुख्य द्वार पर लगाएं.

धन संबंधी परेशानी के लिए
वास्तु शास्त्र के अनुसार आर्थिक तंगी से जूझ रहे लोगों को घर में कछुआ रखने की सलाह दी जाती है. ऐसी स्थिति में वह क्रिस्टल कछुआ को रखना बेहतर माना जाता है. इसे घर के लोगों की आयु भी लंबी होती है और साथ ही कई बीमारियां भी दूर होती है.

ऑफिस में रखने से होगा लाभ
वास्तु शास्त्र के अनुसार अगर आप कोई नया व्यवसाय शुरू करना चाहते हैं या फिर किसी परीक्षा में सफल होना चाहते हैं तो कछुआ आपके लिए लाभकारी साबित हो सकता है. आप ऑफिस में चांदी का कछुआ रख सकते हैं ऐसा करने से आपको सफल परिणाम देखने को मिल सकते हैं.

हर कछुए की दिशा हैं अलग
वास्तु शास्त्र के अनुसार मिट्टी से बने कछुए को उत्तर पूर्व दिशा मध्य और दक्षिणी पश्चिम दिशा में रखा जाना चाहिए. इसके साथ धातु से बने हुए कछुए को उत्तर या उत्तर पश्चिम दिशा में रखना चाहिए.