2 साल के मासूम ने दिखाई गजब की समझदारी, अपनी सूझ-बूझ से बचाई गर्भवती मां की जान

जैसा कि हम सब जानते हैं किसी मां के लिए उसका संतान दुनिया की सबसे बड़ी और कीमती चीज होती है. मां बाप अपने बच्चों को दुनिया की हर खुशी देने के लिए तैयार रहते हैं. मां-बाप कभी भी अपने बच्चों को परेशानी में नहीं देख सकते. अगर कभी बच्चों के ऊपर कोई परेशानी आती है तो मां बाप सामने खड़े होकर उस परेशानी का डटकर सामना करते हैं. मां बाप अपने बच्चे के लिए जितना कुछ करते हैं उसका कर्ज औलाद कभी नहीं अदा कर सकती.

आज हम आपको एक ऐसे मामले के बारे में जानकारी देने जा रहे हैं जिसे जानने के बाद आप भावुक हो जाएंगे. यह मामला सोशल मीडिया पर एक चर्चा का विषय बना हुआ है. दरअसल एक 2 साल के मासूम बच्चे ने अपनी सूझ-बूझ से अपनी गर्भवती मां की जान बचाई है. जी हां गर्भवती मां की जान बचाने के लिए 2 साल के मासूम ने कुछ ऐसा किया कि हर कोई इस बच्चे की बहादुरी की तारीफ करते नहीं थक रहा. यह मामला जानने के बाद बहुत से लोग भावुक भी हो जा रहे हैं.

दरअसल यह पूरा मामला उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद रेलवे स्टेशन का है जो हर किसी को भावुक कर रहा है. 2 साल के मासूम बच्चे ने अनजान शहर में अनजान लोगों के बीच अपने बेटे होने का पूरा फर्ज अदा किया है. मिली जानकारी के मुताबिक मुरादाबाद रेलवे स्टेशन प्लेटफार्म नंबर एक पर बने फुट ओवर ब्रिज पर एक महिला गर्मी की वजह से बेहोश हो गई. वहीं मां के पास खड़ा हुआ 2 साल का मासूम बच्चा अपनी मां को हिलाकर उठाने की कोशिश करता रहा परंतु वह मां को उठाने में असमर्थ रहा.

यह सब देखने के बाद 2 साल का मासूम बैठ कर रोने लगा. वह मासूम इधर उधर देखा जब उसको कोई भी मदद नहीं मिली तो उस मासूम ने अपने कदमों से प्लेटफार्म नंबर एक पर बने जीआरपी थाने की तरफ जाने लगा. उसी दौरान से उतर रही आरपीएफ की एक महिला कॉन्स्टेबल की नजर इस 2 साल के मासूम बच्चे पर पड़ी. मासूम ने अपने लड़खड़ाते जुबान से कुछ कहना चाहा लेकिन बोलने में असमर्थ रहा. फिर उस मासूम ने इशारों-इशारों में कुछ कहने लगा. पहले महिला पुलिसकर्मी को यह लगा शायद बच्चे को भूख लगी है या फिर वह अपने परिजनों से बिछड़ गया है लेकिन बच्चे ने इशारों में महिला पुलिसकर्मी से उसके साथ चलने की बात कही.

कॉन्स्टेबल बच्चे को देख कर उसके साथ चल पड़ी और बच्चों उस महिला कॉन्स्टेबल को अपनी मां के पास ले गया. तब महिला कॉन्स्टेबल ने देखा कि वहां पर एक महिला बेहोश पड़ी हुई है और एक छोटा बच्चा और बेहोश महिला के सीने से चिपका हुआ है. तब उस महिला पुलिसकर्मी ने पहले महिला के चेहरे पर छोटे मारे और उन्हें होश में लाने की कोशिश की. इतना सब करने के बावजूद भी जब महिला होश में नहीं आई तब महिला पुलिसकर्मी ने कंट्रोल रूम को सूचना देकर एंबुलेंस बुलाई और जीआरपी पुलिस की महिला को जिला अस्पताल में एडमिट कराया.

अस्पताल में उस महिला का इलाज शुरू किया गया डॉक्टर के अनुसार महिला 3 महीने की गर्भवती है. इस वजह से और गर्मी की वजह से महिला बेहोश हो गई थी. आईपीएस के सीनियर कमांडेंट ने बताया कि कैसे इस 2 साल के मासूम बच्चे ने बहादुरी दिखाते हुए अपनी मां की और पेट में पल रहे बच्चे को बचा लिया. हर कोई इस 2 साल के मासूम बच्चे की तारीफ करते हुए नहीं थक रहा. मां की जान बचाने के बाद यह घटना सोशल मीडिया पर काफी सुर्खियां बटोर रहा है.