बैंक का सर्वर डाउन होने के कारण किसान के खाते में आए 15 लाख रुपए, बैंक वालों ने वापस की पैसों की डिमांड, किसान ने उठाया यह क़दम??

मौजूदा सत्तारूढ़ सरकार ने देश का डिजिटलाइजेशन करते हुए लगभग हर व्यक्ति का बैंक में खाता खुलवा दिया है। प्रधानमंत्री जनधन योजना के तहत लगभग हर व्यक्ति का अब बैंक में अपना अकाउंट है।

चुनाव प्रचार के समय सरकार ने जनता से यह वादा किया था कि वह देश के सभी काले धन को वापस लाएगी और सभी देशवासियों के खाते में 15 लाख रुपए डाले जाएंगे।

इसी को लेकर महाराष्ट्र के औरंगाबाद से एक बेहद मजेदार खबर सामने आई है जहां सर्वर डाउन होने की वजह से बैंक को मुंह की खानी पड़ी है।

खाते में अचानक आए रुपए-: इस किसान का नाम ज्ञानेश्वर जनार्दन औटे है। वह पैठण तालुका के दाबरवाड़ी का रहने वाला है। उनका पास के ही एक बैंक ऑफ बड़ौदा में अकाउंट है। उसमें 17 अगस्त की शाम को अचानक 15 लाख रुपए आ गए।

किसान तो बहुत खुश हुआ। उसे लगा कि 2014 में किए गए सरकार अपने वादे पूरे कर रही हैं। उसने तत्काल खाते में से सारे पैसे निकाल लिए और उनमें से कुछ रकम निकालकर घर बनवा डाला।

बैंक ने वापस मांगी रकम-: जब बैंक को अपनी इस गलती का अहसास हुआ तो उनके होश उड़ गए। उन्होंने तत्काल किसान के खाते को फ्रीज किया और छानबीन शुरू कर दी। बैंक ने उस किसान को कानूनी नोटिस भेजा और पैसे वापस करने की मांग की।

ऐसी स्थिति में किसान बहुत घबरा गया और वह बैंक से लेकर सभी बड़े अधिकारियों तक भागदौड़ की लेकिन अब तक उसका कोई हल नहीं निकल पाया है। किसान का कहना है कि वह इतनी बड़ी रकम कहां से लाएगा? इसी बात को लेकर वह फिलहाल बहुत परेशान है।

यह भी पढ़े-: